0
Advertisement

एक कौवा प्यासा था 
Ek Kauwa Pyaasa tha


तेज धूप से कौवा प्यासा,
एक कौवा प्यासा था
पानी की थी कहीं न आशा।
एक घड़े में थोड़ा पानी ,
देख हुई उसको हैरानी।

कुछ सोचा फिर लाया कंकड़
लगा डालने एक एक कर।
ज्यों ज्यों कंकड़ पड़ता जाता ,
त्यों त्यों पानी चढ़ता जाता।

ऊपर तक पानी चढ़ आया ,
मेहनत का फल उसने आया।
पानी पीकर प्यास बुझाई ,
मेहनत का फल है सुखदायी।


विडियो के रूप में देखें - 



एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top