0
Advertisement

दुआएं


नही भर सकतीं दुआएं
अगर भर सकतीं तो,
यहाँ कोई....
दुआएं
दुआएं
परेशान न होता,
वृद्धाश्रम न होता,
भिखारी न होते,
बेरोजगारी न होती,
सम्प्रदायिकता की बीमारी न होती,
बात बात पर झगड़े न होते,


होता यूं कि
जब भी कोई परेसान होता
माँ की गोद मे सर रख के
दुआ मांग लेता,
माँ बाप भगवान होते,
भीख की जगह हक होता,
बिना काम के भी इंसान चैन से सोता,
ईश्वर बांटा नही जाता मजहबो में,
सबमे भाईचारा होता।

सोचो दुआओ में ताकत होती तो,
कैसा होता?

- श्रद्धा मिश्रा

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top