0
Advertisement

प्रेमगीत


तुम मेरे दिल की बाती हो।
जब चाहूं तब जल जाती हो।
प्रेम समंदर इतनी पैठी
प्रेमगीत
हरदम प्रेम में मदमाती हो।

स्नेह स्वर्ण सी सिंचित तुम।
मेरे मन में अनुमोदित तुम।
जन्म जन्म से तुझ से रिश्ता।
मेरी अर्धांगिनी घोषित तुम।

तुमने अब स्वीकार किया
मैं तेरे मन में जला दीया।
अब न छुपाओ खुद को तुम
तेरी आँखों ने इज़हार किया।


पल पल तेरे बिन अब रहना मुश्किल है।
बिन तेरे जीवन ये जीना मुश्किल है।
आज से तुम मेरी वेलेंटाइन बन जाओ।
अब तन से तन की दूरी सहना मुश्किल है।

तुम बिन जीवन लगे अधूरा सा।
घर तुम बिन लगता घूरा सा।
तन मन धन समर्पित तुमको है।
मिल कर कर दो मुझको पूरा सा।

तेरे संग हरपल अब वेलेंटाइन है।
तेरे संग जीवन मीठा गायन है।
हर पल जीवन का अब तेरा है।
तू मेरे दिल की ठाकुरायन है।


- सुशील शर्मा

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top