1
Advertisement

अनाथ लड़की 

रेलगाड़ी की खिड़की से
निहारती मन की आंखों से
वह लड़की कितनी मासूम
लग रही थी।
रेणु रंजन
रेणु रंजन
मानो उसका बचपन
कहीं खो चुका था
और उसमें बुजुर्गों सा
खालीपन भर चुका था।

उसकी किलकारी
न जाने कहां
गुम हो रही थी
और वह शुन्य निगाहों से
एकटक खिड़की से बाहर
तेजी से भागते
पेड़ों झाड़- झंखारों को
देख रही थी।

पास ही  बैठी एक
बुजुर्ग महिला
बार बार उसके
माथों और बालों को
अपनी कांपती हाथों से
सहला रही थी ।

मै काफी देर से
उसकी उदासीनता
को परख रही थी
जब रहा नही गया तो
पुछ बैठी उस
महिला से "ये कौन है मां?"
वह बुजुर्ग महिला अपनी
कांपती आवाज से
बोलने लगी,
"क्या करोगी जानकर,
क्या इसके दुख हर लोगी?"

मेरा मन शंकित हो उठा
बोली "बताइए अगर हो सका
तो हरने की कोशिश करूंगी। "
तो सुनो यह एक अनाथ है
भटकती हुई स्टेशन
पर ही मिली थी,
खुब रो रही थी।
मैने पुछा तो बताई
"मेरी सौतेली मां और बाप
 मुझे स्टेशन पर ही
 रोता छोड़ गए।"

जब इसके मां बाप है ही
तो यह अनाथ कैसे?
गंभीर उच्छ्वांस भर
वह महिला बोल पड़ी
"इसके मां बाप कहां
वो तो जीते जी ही मर गए,
तो यह अनाथ नही
तो और क्या?



रेणु रंजन
शिक्षिका, राप्रावि नरगी जगदीश
पत्रालय : सरैया, मुजफ्फरपुर
मो. - 9709576715


-----------------------------------------------------

एक टिप्पणी भेजें

  1. मन को छु जाने वाली और वास्तविकता से भरी रचना.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top