0
Advertisement

नववर्ष


(१)
नववर्ष की इस बेला में
नववर्ष
नववर्ष
आओ कुछ प्रतिज्ञा ली जाये
बच्चों संग बच्चा बन जाये,
दुश्मन दोस्त भूल सबको गले लगाये
वृद्धों की सेवा कर कर्तव्य अपना निभाये
महिलाओं को सम्मान दिलाये,
अंधविश्वासो को त्याग कर नई दृष्टि अपनाये
जिनके कंधो पर है देश की रक्षा का भार
ऐसे वीर सैनिकों की बहादुरी पर शीश झुकाये,
भटके हुये को भी राह पर ले आए
ऐसे नववर्ष का उत्सव मनाये
ताकि फिर भारत विश्वगुरु बन जाए!

 (२)
नववर्ष का आगमन हो रहा है धीरे धीरे
पुरानी हुई बात का अहसास हो रहा है धीरे धीरे
कितने वर्ष आये और चले गये धीरे धीरे
कितने पंचांग बदल गये धीरे धीरे
नया वर्ष नया वक्त अपने चिन्ह बनायेगा धीरे धीरे!

                                                   

अलविदा2017

अलविदा 2017
आज कैलेण्डर बदल दिये गए
पुराने की जगह नये लटक गए,
तारीेख व दिन तो है वही
घड़ी के मिनट घण्टे है वही,
बदली है सिर्फ संख्या
जो सत्रह से हो गई अट्ठारह,
इस पर जो ध्यान आकृष्ट कर रही मेरा
इस पर बनी एक चहकती चिडि़या,
चहककर बता रही खुशी अपनी
नववर्ष में शामिल है मेरी भी छोटी सी दूनिया,
अब दीवार पर टंगा रहेगा वो 365 दिन
और उसके साथ वह चहकती चिड़िया,


                                                         - पूजा पंवार
                                                         (उत्तर प्रदेश)

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top