0
Advertisement

मधुमास 

ऋतु वसंत है आसपास।
स्वप्निल गुंजित-मधुमास।
मधुमास
मधुमास 
तुंग हिमालय के स्वर्णाभ शिखर।
अरुणिम आभा चहुँ ओर बिखर।
नव्य जीवन का रजत प्रसार।
मधुकर सा गुंजित अपार।
सुरभित मलयज मंद पवन.
नील निर्मल शुभ्र गगन।
मृदु अधरों पर मधुआमंत्रण।
नयनों का है नेह निमंत्रण।
बासंती सोलह सिंगार।
सतरंगी फूलों की बहार।
पीत  पुष्प आखर से।
उपवन हैं बाखर से।
शतदल खिली कमलिनी।
गंधित रसवंती कामिनी।
कम्पित अधरों का मकरंद।
किसलय कम्पित मन के छंद।
मंजरियों में बौराई आमों की गंध
अभिसारी गीतों में प्रेम के आबंध।


- सुशील शर्मा 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top