0
Advertisement

अपनत्व 

हुआ करते थे वो एक साथ
आगे बढते थे डाले हाथो मे हाथ
अपनत्व
फिर आई उनपर  एक नई पहर
जिसने डाला उनपर संघर्ष का कहर

फिर टुटा एक अटूट रिश्ता
जिसने बदल दिया सब रास्ता
पतो सी मुरझाई जिन्दगी
डाला असर दुख बरसाई जिन्दगी

बटँ गया वो जीवन हमारा
जिसपर रचाया ख्वाब सारा
हिंसा - तनाव ने जन्म लिया
वातावरण को तंग किया

अन्जाने मे फिर  जीवन ने बदला मुख
महसूस हुआ फिर मिल गया सुख
लगे थामने हाथ अपने
पर याद आया कि थे वे सपने

पर एक आश फिर मन मे आई है
हिन्दू - मुस्लिम - सिख- ईसाई सब भाई-भाई है
तोड़ना है इस तनाव की दरारो को
और थामना है अपनत्व की बाँहो को

- मोनिका कुमारी मिश्रा

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top