1
Advertisement

पहला बुरा दिन

माँ मेरे जीवन का
सबसे बुरा दिन वह था
जब पहली बार
मुझे पता चला था तुम ही से
पहला बुरा दिन
कि अब मैं लड़की बनने की
राह पर चल पड़ी हूँ
यकायक यह सुनकर तुमसे
सहम गयी थी मैं
क्योंकि मैं जान गई थी
लड़की होना ख़तरे से खाली नहीं है
यह वह दिन था जब
मैंने जाना था कि
मैं ताक़तवर नहीं हूँ
अब मुझे नोचा जाएगा
घूरा जाएगा, फब्तियाँ कसी जाएँगी
अंदर और बाहर सब जगह
यह वह दिन था
जब माहौल से आती लहरों ने
मुझे 'सिक्योरिटी' शब्द का अर्थ समझाया था
तुम ही कहो भला उस दिन को
मैं बुरा क्यों न मानूँ
उस दिन ने मुझे आँसू, पीड़ा, व्यथा, दर्द
जैसे शब्दों से रू-ब-रू कराया था
ज़ंजीरों में बंधना और सिमटना सिखाया था
धकेला था इस तुच्छ हो चुकी मानसिकता को
अपनाने के लिए
जिसका न होना
मेरी दुनिया बदल सकता था.

- समीक्षा दुबे


यह रचना समीक्षा दुबे जी द्वारा लिखी गयी है और आप  भारतीय भाषा केंद्र , जे.एन. यू. की विद्यार्थी हैं। साहित्य लिखने-पढ़ने के साथ-साथ शास्त्रीय संगीत और नाटक में गहरी रुचि ।

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top