0
Advertisement

चेहरे

क्यों चेहरे बदलते हो।
छाती पर मूंग दलते हो।

कभी मन का कभी तन का
लिबास क्यों बदलते हो।
चेहरे

कभी इनका कभी उनका
दामन थाम के चलते हो।

कभी इधर कभी उधर
क्यों पाला बदलते हो।

कभी पैसा कभी गाड़ी
झूठी शान में चलते हो।

कभी ऊपर कभी नीचे
हरदम क्यों फिसलते हो।

कभी प्यार कभी तकरार
मौजें क्यों बदलते हो।

कभी मिन्नत कभी शिकवा।
अरे क्या खूब मिलते हो।

कभी गाली कभी ताली
अरे वाह खूब जलते हो।

- सुशील शर्मा

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top