1
Advertisement

प्रकृति

यह वृक्ष हमें देते जीवन इनको ऐसे ना काटो तुम
तुम कद्र करो इन वृक्षो की इनकी आवश्यकताओ को पहचानो तुम
अगर नहीं रहेंगे यह सब तो तुम चारों ओरो को भागोगे
इतने व्याकुल हो जाओगे अपने ही प्राणो को भी त्यागोगे

क्या नहीं चाहते तुम कि इस दुनिया का कल्याण हो
 प्रकृति
इस प्रकृति में जन्म लिया इन बातों का तुम्हें ध्यान हो
अपने पूरे जीवन काल में तुम्हें इतने वृक्ष लगाना है
इस दूषित हो चुकी प्रकृति को तुम्हें फिर से स्वच्छ बनाना है

यह सोच ना हो मुझ में केवल यह सोच हर व्यक्ति की
वह स्वच्छ प्रकृति कितनी सुंदर कितनी मनमोहक लगती थी
हर ओर थे वृक्ष लहलहाते खेत खलिहान थे
हर और चिड़िया चहचहाती वह बड़े-बड़े बागान थे

अब देखो किसी भी और बस प्रदूषण ही दिखता है
यह अस्वस्थ करने वाला भोजन हर चौराहे पर बिकता है
क्या चाहते हो तुम भी कि सुबह-सुबह फूलों की खुशबू घर आंगन को महकाए
वह विलुप्त हो चुकी चिड़िया फिर पेड़ों पर चहचाहे
तुम कर सकते हो इसको संभव अपनी क्षमता पर अभिमान करो
एक दूसरे का हाथ थाम कर इस प्रकृति का अवधान करो
तुम हरा-भरा कर दो इस प्रकृति को बस यह एक कार्य महान करो
तुम प्रदूषण को ना फैलाओ इस प्रकृति पर अवलेप करो
आज  ही बढो लक्ष्य की ओर,एक कदम स्वच्छ की  ओर
                 

- राजकुमार पटेल

एक टिप्पणी भेजें

  1. राजकुमार पटेल जी आपकी प्रकृति यह रचना बड़ी अच्छी हैं, प्रकृति हमें बहुत कुछ देती हैं वो भी निस्वार्थ भाव से हमें भी उस प्रकृति का संरक्षण करना चाहियें.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top