2
Advertisement

मानवता

मानवता अपना ले बंदे।
मिट जाएंगे सारे फंदे।

प्रभु ने तुझ को जनम दिया है।
तुझ पर ये उपकार किया है।
मानवता
जिसने मानवता अपनाई।
उसने जीवन का उद्धार किया है।
छोड़ के सारे गोरख धंधे।
मानवता अपना ले बंदे।
मिट जाएंगे सारे फंदे।


मानवता है एक सवेरा
न कुछ तेरा न कुछ मेरा।
सब धर्मों से ऊंचा देखो
दीन दुखी के मन का फेरा।
सेवा के लटका के फुन्दे।
मानवता अपना ले बंदे।
मिट जाएंगे सारे फंदे।


मानवता है प्रभु का दर्शन।
दीन दुखी का करके अर्चन।
जीवन को तू सदगति दे दे।
मानवता का कर पूर्ण समर्पण।
त्याग विचार ये सारे गंदे।
मानवता अपना ले बंदे।
मिट जाएंगे सारे फंदे।

सब धर्मों की सीख यही है।
जीवन की बस रीत यही है।
मानवता में बस जा मानुष।
हार नही है जीत यही है।
बंद करो सब काले धंधे।
मानवता अपना ले बंदे।
मिट जाएंगे सारे फंदे।

चारों ओर है घुप्प अंधेरा।
कलुषित मन के कुत्सित 'डेरा'
अब मानवता को कौन बचाये।
लाकर नूतन नया सबेरा।
कलुष विचार को करके मंदे।
मानवता अपना ले बंदे।
मिट जाएंगे सारे फंदे।


- सुशील शर्मा

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top