0
Advertisement

मन के मीत

मन के मीत
हर पल ढूंढा प्यारे
दिशा - दिशा कोना कोना
तुझ सा कहीं न मिला
मेरा मन मीत रे।
मन के मीत

किया रोशन जहां मेरा
तो , तिमिर का डर भी
दिखाया तुने कभी- कभी
है कैसी तेरी रीत रे।

जीवन के झंझावातों से
झंकृत-विकृत जिंदगी
फिर भी साहस मिलता
जब गाऊं तेरी गीत रे।

खुशबू का दामन थामे,
बदबू के कुछ झोंके भी आए
सब पर तेरी महक भारी
ये कैसी  तेरी जीत रे।

थकती हारती जब जिंदगी
आ जाता हंसाने तू
करतब तेरी ऐसी प्रभु
मन होता शीत रे।

मन के अंतःस्थल में
झलक तेरी ही मिलती
एक पल ओझल न होते
है तुझसे मेरी प्रीत रे।

हर पल ढूंढा प्यारे
दिशा - दिशा कोना कोना
तुझ सा कहीं न मिला
मेरा मन मीत रे।
     



रेणु रंजन
शिक्षिका, राप्रावि नरगी जगदीश
पत्रालय : सरैया, मुजफ्फरपुर
मो. - 9709576715


-----------------------------------------------------

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top