0
Advertisement

हिंदी अंग्रेजी संवाद

आज फिर हिंदी तथा अंग्रेजी के बीच स्वयं को श्रेष्ठ साबित करने की जंग जारी थी। मैं चाह रही थी कि कम-से-
हिन्दी अंग्रेजी संवाद
हिन्दी अंग्रेजी संवाद
कम इस बार तो हिंदी जीत जाए, पर नहीं, हर बार की तरह इस बार भी अंग्रेजी का पलड़ा ही भारी दिखाई दे रहा था। और हो भी क्यों न, अंतरराष्ट्रीय भाषा के आगे राष्ट्रीय भाषा की कोई औकात है भला? राष्ट्रीयता की भावना लिए न जाने कितने आए और गुमनामी के अंधेरे में खो गए, पर पहचान उन्हीं की बनी जो अंतरराष्ट्रीय स्तर पर राष्ट्रीयता को दरकिनार कर आगे निकलते चले गए। लेकिन, इन दोनों के संवाद के दौरान एक समय ऐसा भी आया जब लगा कि अंतत: भगवान ने मेरी सुन ली। आखिर अपनी दलीलों के आगे हिंदी ने अंग्रेजी को नतमस्तक करा ही दिया। काफी देर से अंग्रेजी की बड़बड़ सुन हिंदी को गुस्सा आ गया और उसने पलटवार करते हुए अंग्रेजी से कहा, तुझे तो हमारे प्रति कृतज्ञता व्यक्त करनी चाहिए कि हमारे लोगों ने तुम्हें मान्यता दी वर्ना तू तो अपने ही घर में उपेक्षित थी। जरा बताना तो सही, तू मुझसे किस बात में श्रेष्ठ्र है? अरे, तू जरा अपने शब्दकोश उठाकर तो देख ग्रीक, लैटिन जैसे अनेक विदेशी शब्दों से भरी पड़ी है। जहां तक मेरा सवाल है तो मेरे अपने ही शब्दकोश में शब्दों की संख्या तुझसे कहीं अधिक है और यदि मैं भारत के विभिन्न प्रांतों की बोलियों के शब्दों को अपने में मिला लूं तो मेरे शब्दकोश तेरे शब्दकोश पर भारी पड़ जाएंगे। इस पर अंग्रेजी बोल पड़ी, तो अब तक ऐसा किया क्यों नहीं? क्या शुभ घड़ी की प्रतीक्षा कर रही थी? अरे मैं तुझसे श्रेष्ठ्र हूं तभी तो तेरे घरवाले मुझे तुझसे ज्यादा चाहते हैं। यह सुन हिंदी तिलमिला उठी और फट पड़ी।
मेरी इस दशा की जिम्मेदार तू है तू, तुझे मैंने यहां से नहीं भगाया तो मेरा नाम भी हिंदी नहीं। अरे, तू भी कोई भाषा है, वैज्ञानिकता का तो नामोनिशान नहीं है तुझमें। कहीं बट है, तो कहीं पुट है, तो कहीं कट है। अरे, मैं तो जैसी लिखी जाती हूं, वैसी ही पढ़ी जाती हूं - कलम तो कलम और कमल तो कमल। और सचमुच हिंदी के इस जवाब ने अंग्रेजी का मुंह बंद कर दिया। वह बिल्कुल शांत हो गई। अंग्रेजी की चुप्पी देख हिंदी की गर्दन गर्व से तन गई और वह अकड़ कर खड़ी हो गई। परंतु, यहीं हिंदी मात खा गई, अंग्रेजी चुप नहीं थी बल्कि हिंदी को मात देने के लिए उसकी कमजोरियों के मद्देनजर सोच-विचार कर रही थी। थोड़ी देर चुप रहने के पश्चात अंग्रेजी ने जो बोलना शुरू किया, उसे सुन हिंदी के तो होश ही ठिकाने आ गए। अंग्रेजी ने कहा कि मेरे शब्दकोश में विदेशी शब्द हैं तो क्या हुआ पर मैं तो किसी विदेशी भाषा की दास नहीं, बल्कि मैंने तो तुझ जैसी समर्थ और वैज्ञानिक भाषा को अपना दास बना कर रखा हुआ है। लाख कोशिशों के बाद भी तू अपना राष्ट्रीय स्वरूप आज तक प्राप्त नहीं कर पाई है। तू अब तक संपूर्ण भारतवर्ष की संपर्क भाषा भी नहीं बन सकी है जबकि मैंने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपना वर्चस्व कायम किया है। अरे मेरी बदौलत ही तेरे देशवासी सूचना तकनीक के क्षेत्र में इतना आगे आ पाए हैं, जबकि तुझे जानने का दम भरनेवाले तो अच्छी नौकरियों के लिए अपने ही देश में दर-दर भटकते हैं। तेरा-मेरा क्या मुकाबला? हिंदी क्या बोलती बेचारी टुकुर-टुकुर बस अंग्रेजी का मुंह ताक रही थी। जो गर्दन थोड़ी देर पहले ही गर्व से तनी थी अब धीरे-धीरे नीचे की तरफ झुकने लगी थी। अंग्रेजी ने आगे बोलना शुरू किया, सुन, तू मुझे यहां से क्या भगाएगी। पहले अपनों के दिल में तो अपनी जगह पक्की कर, फिर मुझे भगाने के सपने देखना। तेरे अपने ही जब भरी बाजार में तुझ पर कीचड़ उछालने से नहीं चूकते तो इसमें भला मेरा क्या दोष? याद कर, तेरे ही देश के एक प्रतिनिधि ने भरी सभा में कहा थी कि हिंदी के पास अंग्रेजी की तरह रैट तथा माउस जैसे उपयुक्त शब्द नहीं है, और उन्होंनें भी मुझे तुझसे ज्यादा श्रेष्ठ्र साबित किया था। जरा अपनी भाषा के पत्रकारों को देख, हाड़-तोड़ मेहनत के बावजूद उन्हें अंग्रेजी के पत्रकारों के मुकाबले कम वेतन और सुविधाएं दी जाती हैं। तेरे यहां की भाषाई अकादमी में भी कब तुझे जानने-समझने वालों का वर्चस्व रहता है? अब बोल, तेरी बोलती क्यों बंद हो गई? इतने सारे आरोपों के बाद तो हिंदी के पास सचमुच कुछ बोलने को नहीं बचा था। अपनों के चीरहरण से नंगी हुई हिंदी ने सोचा जब अपना ही सिक्का खोटा है तो दूसरों को दोष देने से क्या फायदा? और यही सोच वह अंग्रेजी से नजरें चुराती हुई झट हिंदी दिवस की फाइल में जा घुसी। मैंने भी सोचा चलो साल में कम-से-कम एक बार ही सही, हमारी इस भाषा के बारे विचार तो किया जाता है।

- तरु श्रीवास्तव 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top