0
Advertisement

हिन्दी भारत का परिवार है

विश्व  मे  भाषाओं  की  ,
जब  लगी  थी  मेला ।
दूर -दूर  देशों  से  आकर ,
बैठे  थे,  गुरु  संग  चेला ।

अपने -अपने   धर्म  गंर्थ  की ।
हिन्दी
कर   रहे  थे  खेला   ।
तभि  हिन्दी !  हिन्दू  के  लाला ।
पहूँचे  बीर  अकेला   ।

बंद्धञ्जिली    कर ,   करि     विनय ।
तो  मिली  पल  - भर  की ! उन्हें  समय ।
माँ  की   ममता  ! पिता  का  गौरव  !
दिखाने  का , अवसर   मिल   गया   ।
हर   ह्रदय !   हर्षित     हुआ   !
मन   पावन  - पावन  खिल  गया  ।

नाज  किये , कर  रहे  है  लोग  ।
भारत   की , इस  गरिमा   पर  ।
लाखों  भाषाएं ! झुकी  हुई  है ।
हिन्दी  की   इस , महीमा  पर  ।

हिन्दी  हमे , आदर्श   सिखाती  ।
हिन्दी ! ममता  बरसाती  है ।
हिन्दी  छोटी  सी,  गुङीया  बनकर ।
फूलों  सी ,  मुस्काती   है  ।

हिन्दी  ह्रदय   का , अंग  है ।
मानवता  का , उमंग   है  ।
प्यार  प्रेरणा ! मिलती  जिससे  ।
हिन्दी  उसका , पावन  रंग  है ।

हिन्दी  हमारी ,  सांसों  मे ।
आने - जाने  वाले , एक  तार  है ।
हम  भरत  वंशी   कहते ।
हमे ! हिन्दी  से  इतना  प्यार  है ।

चांद - तारों  से , चमकने  वाले  ।
हिन्दी  के  हर , अलंकार  है ।
दुनियाँ  जिसे , श्रृंगार  कहती  है ।
ये  भारत  का , परिवार  है ।
हिन्दी  ! भारत  का  परिवार   है ।


मै !  कौन   हूँ  ?

मै !  कौन   हूँ  ?
मम्मी  से , मैंने   पूछा ।
पापा  से ,  मैंने   पूछा  ।
दादी  से ,  मैंने    पूछा  ।
दादा  से ,  मैंने    पूछा  ।
दीदी  से ,  मैंने    पूछा   ।
भैया   से ,  मैंने   पूछा  ।
गाँव - नगर , टोला  के  ।
मैया  से ,  मैंने   पूछा  ।
मै !  कौन   हूँ   ?

मम्मी  बोली  , तू  लाल  मेरा ।
 शैलेश  कुमार
 शैलेश  कुमार
पापा    बोले   ,  तू    बेटा   ।
दादा - दादी , मिलकर   बोले ।
तू     है   ,  प्यारा     पोता  ।
भैया   बोले ,  अनूज   मेरा ।
दिदी   बोली  ,  तु   भाई   ।
गाँव  नगर   के  , मैया   बोली ।
तू     है     मेरा   ,   परछाई    ।

अंततः  से , अबाज  आया  ।
ये  सब  मेरी , समझ  न आया ।
मुझे  पता  नहीं  , कौन   हूँ  मै ?
क्यूं   इतना ? अब-तक  ,मौन  हूँ  मै ।
मै ,मै  जब , मै  से  पूछा । मै   कौन   हूँ   ?
ये  दुनियाँ - जमाना  मे ! मै  मौन  क्यूं  हूँ  ?

मै  ! मै   को  , जब  दिया   जबाब  ।
खिलने   लगा ,  बनकर     गुलाब   ।
अंधेरे    मे  ,  जलने     वाले   ।
दिया  - बाती ,   प्रकाश    हो   तुम  ।
दुःख   को   सुखमय , करने   वाले  ।
प्रगति , उन्नतिशील  , उल्लास  हो  तुम ।

दुर्गंध    दूर  ,   करने     वाले  ।
सौरभ   और ,  सुगंध  हो  तुम ।
अन्याई    से  ,   लङने     वाले ।
प्रखर   और  ,  प्रचंड   हो   तुम  ।
सरिता   के  शीतल  , जल  हो  तुम ।
वनों   के   पावन ,  फल   हो   तुम  ।
बृद्ध  !  मात  -  पिता    की   आंखें  ।
ज्योति ,  लकड़ी ,  सम्बल   हो  तुम  ।

धरती   के  ,  संतान    हो    तुम   ।
बहनों   के  , अरमान   हो    तुम  ।
सरहद     पे  ,     लङने     वाले  ।
बीर   पुरुष  , जबान    हो    तुम  ।
प्यारो    के    प्यारे   , आंखों   मे  ।
बहने    वाले ,   नीर    हो    तुम   ।
खट्टी  - मिठ्ठी ,  कुछ    यादों   मे  ।
तङपाने   वाले  ,  पीर   हो   तुम  ।

सजनी  की , माथे  की  बिन्दीया  ।
और   सोलह  , श्रृंगार    हो   तुम  ।
पतझङ     की   ,  ऋतु     वसंत   ।
और   मौसम  , बहार    हो    तुम  ।
वेरंगी    ,  इस       चादर      का  ।
अनमोल  - अनोखी ,  रंग   हो  तुम  ।
बंजर -  बिहङ ,   मेरे    मन    का  ।
उभरता    हुआ ,  उमंग   हो   तुम   ।

ज्वाला    के  ,   तरंग    हो   तुम   ।
नदी - धारा   के ,  संग   हो   तुम   ।
आशा    -    निराशा  !   मजबूरी ,
हर  किरण  की  नई  , एक  अंग   हो  तुम  ।


रचनाकार परिचय
आचार्य  - शिष्य  शैलेश  कुमार  (कुशवाहा )
            पिता  -  प्रकाश   माहतो  (कुशवाहा ) 
            ग्राम  -  सौर - वारिसलीगंज  -नवादा - बिहार 
             मोo -  8384006927

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top