0
Advertisement

भगवान या शैतान

तुमने पहले मुझे
भगवान का दर्जा दिया
खूब पूजा
बहुत माना
भगवान
फिर मन भर गया तो
मुझे इंसान भी
न रहने दिया।
सीधा शैतान का तमगा
टांग दिया मेरे गले में
मेरे चेहरे पर लटके
सभी भगवान के मैडल
नौच लिए तुमने
जैसे सजा के बाद
किसी अधिकारी के
सारे मैडल उतार लिए जाते है।
सिर्फ इसलिये कि
मेरी बातें तुम्हारे बनावटी
सम्मान को भेदती हुई
तुम्हारे अंतर के विकराल
अहंकार को छेड़ गईं।
एक सच ने तुम्हारे अंदर
बैठे हुए अहंकार के नाग को
जगा दिया और फिर वह नाग
टूट पड़ा मेरे सम्मान को
शैतान के तमगे में बदलने।
दोनों प्रतिरूप कितने प्रासंगिक
स्वार्थ की आकांक्षा में
किसी को भगवान बना देना।
और अहम झुलसने पर
उसी को शैतान में बदल देना।
यह भगवान का भाव
और शैतान का भाव
हमारे अहंकार के सिक्के के
दो पहलू है।
हमारा अहंकार संतुष्ट तो
सामने वाला भगवान।
हमारा अहंकार रुष्ट तो
सामने वाला शैतान।

- सुशील शर्मा

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top