1
विजयदशमी
विजयदशमी

विजयदशमी जानकी जीवन, विजय दशमी तुम्हारी आज है, दीख पड़ता देश में कुछ दूसरा ही साज है। राघवेन्द्र ! हमेँ तुम्हारा आज भी कुछ ज्ञान है, क...

और जानिएं »

4
स्थानांतरण प्रमाण पत्र हेतु प्रार्थना पत्र
स्थानांतरण प्रमाण पत्र हेतु प्रार्थना पत्र

स्थानांतरण प्रमाण पत्र हेतु प्रार्थना पत्र Application for a transfer certificate  १३५ विकासनगर, नयी दिल्ली - ७५ दिनांकः ३०/०९/२...

और जानिएं »

1
समय का महत्व बताते हुए अपने मित्र को पत्र
समय का महत्व बताते हुए अपने मित्र को पत्र

समय का महत्व बताते हुए अपने मित्र को पत्र Letter on Importance of Time in Hindi १३५ विकासनगर, नयी दिल्ली - ७५ दिनांकः ३०/०९/२०१७...

और जानिएं »

0
भूल के लिए क्षमा मांगते हुए  पिताजी को पत्र
भूल के लिए क्षमा मांगते हुए पिताजी को पत्र

अपनी भूल के लिए क्षमा मांगते हुए अपने पिताजी को पत्र  An Apology Letter from Son to Father in Hindi १३५ विकासनगर नयी दिल्ली - ७५ ...

और जानिएं »

0
संतोषी माता की आरती
संतोषी माता की आरती

संतोषी माता की आरती  Santoshi Mata Ji Ki Aarti जय संतोषी माता, मैया जय संतोषी माता । अपने सेवक जन को, सुख संपति दाता ॥ जय सुंदर...

और जानिएं »

0
विजयादशमी 2017
विजयादशमी 2017

दशहरा की हार्दिक शुभकामनायें दशहरा की हार्दिक शुभकामनायें

और जानिएं »

2
मैं रावण बोल रहा हूँ
मैं रावण बोल रहा हूँ

मैं रावण बोल रहा हूँ राम और मैं रामायण के सबसे ऊर्जावान चरित्र हैं।भले ही मेरा चरित्र सबको नकारात्मक ऊर्जा से भरा लगता है और राम का चरित...

और जानिएं »

0
भगवान या शैतान
भगवान या शैतान

भगवान या शैतान तुमने पहले मुझे भगवान का दर्जा दिया खूब पूजा बहुत माना फिर मन भर गया तो मुझे इंसान भी न रहने दिया। सीधा शैतान का ...

और जानिएं »

1
श्री लक्ष्मी चालीसा
श्री लक्ष्मी चालीसा

श्री लक्ष्मी चालीसा ॥दोहा॥ मातु लक्ष्मी करि कृपा, करो हृदय में वास। मनोकामना सिद्ध करि, परुवहु मेरी आस॥ ॥सोरठा॥ यही ...

और जानिएं »

1
तेरा इन्तज़ार आज तक
तेरा इन्तज़ार आज तक

तेरा इन्तज़ार आज तक दुआ ना दे की जियूँ मै बेशूमार दो घड़ी ही जी लू तेरी याद मे हो ऐसा खुमार बरसो तक,        अब खुद ही नही रहा मेरा खुद ...

और जानिएं »

0
बिंदास जीवन
बिंदास जीवन

चाहत बिंदास जीवन की जब मै तेरे पास होती दिल की तमन्ना होती खुद तुम्हारे स्नेह में डुबूं उतरूं और तुम्हें भी प्यार की मीठी ताप से सहल...

और जानिएं »

6
साहित्य सागर Sahitya Sagar
साहित्य सागर Sahitya Sagar

साहित्य सागर Sahitya Sagar प्रिय मित्रों , ICSE Board के ९वीं  और १० वीं  कक्षा के साहित्य सागर Sahitya Sagar  के लिए छात्र उपयोगी प्रश्...

और जानिएं »

1
हे सर्वशक्ति
हे सर्वशक्ति

हे सर्वशक्ति त्वं शरणं मम मन अंदर है गहन अंधेरा। चारों ओर दुखों का घेरा। माँ दुर्गा जीवन की पथरीली राहें। तेरे चरण हैं मृदुल सबेर...

और जानिएं »

0
कुछ देर ठहरो
कुछ देर ठहरो

कुछ देर ठहरो कुछ देर ठहरो,,,, अरे सुनो ,सुनो तो सही बस एक बार रुक जाओ ना,,,, जानती हूँ की जाना है तुम्हे बरसो पुराने रिश्ते को...

और जानिएं »

0
आधुनिक कविता के गुण दोष
आधुनिक कविता के गुण दोष

आधुनिक कविता के गुण दोष  आधुनिक कविता परंपरागत कविता से आगे नये भावबोधों की अभिव्यक्ति के साथ ही नये मूल्यों और नये शिल्प-विधान का अन्वे...

और जानिएं »

6
गिरधर की कुंडलियाँ
गिरधर की कुंडलियाँ

गिरधर की कुंडलियाँ Giridhar Ki Kundaliya १.लाठी में गुण बहुत हैं, सदा राखिये संग। गहरि, नदी, नारी जहाँ, तहाँ बचावै अंग॥ जहाँ बचावै...

और जानिएं »

0
मातृ मंदिर की ओर
मातृ मंदिर की ओर

मातृ मंदिर की ओर व्यथित है मेरा हृदय-प्रदेश चलूँ उसको बहलाऊँ आज । बताकर अपना सुख-दुख उसे हृदय का भार हटाऊँ आज ।। चलूँ मां के पद-पंकज...

और जानिएं »

0
बात क्या हैं जो खफ़ा हो जाते हो
बात क्या हैं जो खफ़ा हो जाते हो

बात क्या हैं जो खफ़ा हो जाते हो  बात क्या हैं जो खफ़ा हो जाते हो राज क्या हैं जो तुम मुझसे छुपाते हो तेरी ये नराजगी अब बर्दाश नही होती ह...

और जानिएं »

1
प्रकृति
प्रकृति

प्रकृति यह वृक्ष हमें देते जीवन इनको ऐसे ना काटो तुम तुम कद्र करो इन वृक्षो की इनकी आवश्यकताओ को पहचानो तुम अगर नहीं रहेंगे यह सब तो तु...

और जानिएं »

0
एक कदम बढा
एक कदम बढा

एक कदम बढा मन कुछ कहती है हवा कुछ कहती है शाम ढल गयी है शमा कुछ कहती है वक्त चल रहा है ,गति से अपनी चल साथ मेरे ये सुबह कुछ कैहती ...

और जानिएं »

2
मानवता
मानवता

मानवता मानवता अपना ले बंदे। मिट जाएंगे सारे फंदे। प्रभु ने तुझ को जनम दिया है। तुझ पर ये उपकार किया है। जिसने मानवता अपनाई। उसने ...

और जानिएं »

0
कृष्ण कृष्ण धुन बजी रे मन में
कृष्ण कृष्ण धुन बजी रे मन में

कृष्ण कृष्ण धुन बजी रे मन में कृष्ण कृष्ण धुन बजी रे मन में। राम रतन धुन सजी रे तन में। पांच प्रकार की माटी सानी। जन्म दियो मोहे दि...

और जानिएं »

0
स्वच्छ भारत
स्वच्छ भारत

स्वच्छ भारत एक दीप जला दिया है एक दीप जलाना है अखिल विश्व से भी सुंदर अपना राष्ट्र बनाना है बापू जी का था ये सपना सच इसे कर दिखलाना ...

और जानिएं »

0
हिन्दी भारत का परिवार है
हिन्दी भारत का परिवार है

हिन्दी भारत का परिवार है विश्व  मे  भाषाओं  की  , जब  लगी  थी  मेला । दूर -दूर  देशों  से  आकर , बैठे  थे,  गुरु  संग  चेला । अपने -...

और जानिएं »

0
पहचान तुम बनो
पहचान तुम बनो

पहचान तुम बनो कोई गीत जो लिखूँ वो साज तुम बनो, सपनों की परवाज़ तुम बनो, नींद आँखों मे जब-जब आये वो ख्वाब तुम बनो बात कुछ हो दिल क...

और जानिएं »
 
 
Top