1
Advertisement

पैसे की बचत कैसे करे 

देश में सभी बैंकों व पोस्ट ऑफिस ने छोटी बचत योजनाओं पर ब्याज दर कम कर दी है ।आपके फिक्स्ड
पैसे की बचत
पैसे की बचत
डिपॉजिट अब बहुत कम  रिटर्न्स दे रहे हैं ।
इस कदम के सकारात्मक व नकारात्मक दोनों  पहलु हैं ।

सकारात्मक पक्ष 

बाजार में यदि मनी फ्लो बनाये रखना है तो ब्याज  दरें कम करनी होंगी ।लोन पर ब्याज दरें कम रखनी हैं तो बचत पर ब्याज कम रखना होगा ।किसान  ऋण माफी आदि के लिए ब्याज दर कम रखनी होगी ।ये तो ब्याज दरें कम करने के कुछ सकारात्मक पक्ष हैं ।

नकारात्मक पक्ष 

भारत की बहुत बड़ी आबादी शेयर मार्केट ,म्यूच्यूअल फंड आदि के दांवपेंच नहीं जानती ।अपनी बचत को बैंक ,पोस्ट आफिस में इन्वेस्ट करती है ।कम ब्याज दर से उसकी हानि निश्चित है ।देश के वरिष्ठ नागरिक , घरेलू महिलाएं छोटी छोटी बचत के सहारे अपना भविष्य सुरक्षित रखते हैं ।कम ब्याजदर उनके लिए हानि है ।

सरकार की नीति 

यह कहा जाता है कि विदेशों में तो सेविंग  में पैसा रखने पर ग्राहक को शुल्क देना पड़ता है ।भारत में कुछ ब्याज तो दिया जाता है ।यह तर्क देने वाले विदेश के सामाजिक सुरक्षा नियम को क्यों नज़र अंदाज़ करते हैं ।वहां रोजगार की गारंटी है ।शिक्षा ,स्वास्थ्य सेवाएं मुफ्त हैं ।वो भी  हाई क्लास ।
वृद्ध नागरिकों के लिए पेंशन योजना है ।60 साल की आयु के बाद स्विट्ज़रलैंड में सरकार हर नागरिक को पेंशन देती है ।उनका बिजली ,पानी ,फोन फ्री होता है । ऐसा बहुत से देशों में है ।क्या भारत में यह सुविधा है ?
दो ,ढाई हजार की वृद्धावस्था पेंशन है ।पर कितने लोगों को मिलती है ? इन रुपयों से वरिष्ठ नागरिक की दवा का खर्चा भी नहीं निकलता ।
बचत योजनाओं पर ब्याज दर कम करके सरकार  एक बड़े वर्ग को बचत से दूर भी कर रही है । रिटायरमेंट के बाद व्यक्ति को इन बचत योजनाओं का सहारा था , महिलाएं इनके माध्यम से पैसा बचाती थीं ।पर सरकार चाहती है कि  शेयर बाजार में पूंजी लगाओ , जहां बड़े कॉरपोरेट्स को फायदा पहुंचे । अगर पैसा डूबे तो  गरीब ,मध्यम वर्ग का ,सरकार को तो चंदा कॉर्पोरेट देते हैं ।जिसका न तो कोई हिसाब है न वो RTI के अंतर्गत आता है ।अपना करोड़ों का चंदा तो बिना पैन कार्ड के ले लिया जाता है ।गरीब, मध्य वर्ग की बचत पर ब्याज की थोड़ी सी राशि भी चुभती है !

- डॉ संगीता गांधी 
नयी दिल्ली

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top