1
Advertisement

खुली किताब हूँ

मै कवि नही हूँ
खुली किताब हूँ
पन्ने पलटकर तो देखो
आभासी नही साक्षात् हूँ
फिर न कहना
राहुल कुमावत
राहुल कुमावत 
बंद जंजीरो में जकड़ा हूँ
में भूगोल ही नही
पूरा इतिहास हूँ
काले बादल काले अक्षर
जज्बातों की बरसात हूँ
में लिख दूँ कैसे?
जातिवाद पर
वो तो नग्न सोया
इंसानो की बस्ती मै
हर रोज मर रहे है
पाखण्डी वोटो की मस्ती मै"
ये कपटी"बाहरवाद का जहर घोल रहे है
जातिवाद से इसको तोल रहे है
ले सुन"21वी सदी में मूर्खो की परिभाषा
लालच फरेब की ये अभिलाषा
में कवि नही हु
खुली किताब हूँ
पन्ने पलटकर तो देखो
आभासी नही साक्षात् हूँ
कलम मेरी रो पड़ी स्याही को दे आघात
लिखने वाले लिख दिए
समाजवाद की वेदी पर
कलम मेरी टूट गई
वजनदार पैरो(जातिवाद)की एड़ी पर


- राहुल कुमावत 
उम्र-20वर्ष
बोरसी दुर्ग 
881887420

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top