0
Advertisement

अंतरजाल पर हिंदी साहित्य

हिंदी के साहित्य का
इंटरनेट पर राज।
कई हज़ार ब्लॉगर बने
हिंदी साहित्य
होता हिंदी में काज।

अभिव्यक्ति अनुभूति
से शुरू हुई थी बात।
वेबपेज है अनगिनत
करते सबको मात।

वेबदुनिया और हिंदी कुंज
 साहित्य की लहरी हैं।
शब्दों का उजाला और
वसुधा हिंदी के प्रहरी है।

स्वर्गविभा प्रतिलिपि
बनी हिंदी की आवाज़।
रचनाकार साहित्य सुधा
हैं हिंदी के परवाज।

साहित्य शिल्पी और
नेस्ट में हिंदी है लिपि बद्ध।
सहित्यकुंज और हाइकु
मंजूषा है हिंदी के लब्ध।

अंतरजाल पर बिछ गया
 हिंदी का साम्राज्य।
हिंदी की हिमायत करें
भारत के सब राज्य।

फेसबुक व्हाट्स एप्प से
हुआ हिंदी साहित्य का प्रसार।
अंतरजाल ने दिया नए
 लेखकों को प्रचार।

हिंदी लेखन से जुड़ा
नया मीडिया तंत्र।
विश्व की भाषा बन सके
यही है मूल में मंत्र।

- सुशील शर्मा

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top