0
GST
GST

किताब :  GST     सब-टाइटल : क्या - किसके लिए – कैसे Author: सुजय प्रकाश उपाध्याय | शचि साक्षी उपाध्याय        किताब के विषय में...

और जानिएं »

1
नया सवेरा
नया सवेरा

नया सवेरा मैं घिर गई थी अंधकार की उस खामोश नीरवता में सिर्फ सुनाई देती झींगुरों, कुक्कुरों, गीदड़ों का भयंकर चित्कार आगे बढ़ने के...

और जानिएं »

0
साहित्य में विज्ञान लेखन
साहित्य में विज्ञान लेखन

साहित्य में विज्ञान लेखन विज्ञान उन सभी मनोवृत्ति के तरीकों को जुटाता है जो कि सारभूत रूप में संवेदनाओं और मनोभावों के विपरीत । विज...

और जानिएं »

1
खेल का सामान उपलब्ध कराने के लिए पत्र
खेल का सामान उपलब्ध कराने के लिए पत्र

खेल का सामान उपलब्ध कराने के लिए पत्र Letter of Request for Better Sports Facilities  १३५ , विकासनगर , नयी दिल्ली - ७५ दिनांकः ३...

और जानिएं »

3
शहीदों की चिताओं पर जुड़ेंगे हर बरस मेले
शहीदों की चिताओं पर जुड़ेंगे हर बरस मेले

शहीदों की चिताओं पर जुड़ेंगे हर बरस मेले  उरूजे कामयाबी पर कभी हिन्दोस्ताँ होगा रिहा सैयाद के हाथों से अपना आशियाँ होगा चखाएँगे मज़ा ...

और जानिएं »

3
भोली हिंदी कहानी
भोली हिंदी कहानी

भोली हिंदी कहानी एक लड़की जब परिणय बंधन में बंधकर ससुराल की दहलीज पर पांव रखती है तो उसका ह्रदय न जाने कितने ख्वाबो को खुद में समेटे होता...

और जानिएं »

1
संप्रेषण और संवाद
संप्रेषण और संवाद

संप्रेषण और संवाद आपके कानों में किसी की आवाज सुनाई देती है. शायद कोई प्रचार हो रहा है. पर भाषा आपकी जानी पहचानी नहीं है. इससे आप उसे सम...

और जानिएं »

1
एकांकी संचय Ekanki Sanchay
एकांकी संचय Ekanki Sanchay

एकांकी संचय Ekanki Sanchay प्रिय मित्रों , ICSE Board के ९वीं  और १० वीं  कक्षा के एकांकी संचय Ekanki Sanchay  के लिए छात्र उपयोगी प्रश्...

और जानिएं »

0
मातृभूमि का मान
मातृभूमि का मान

मातृभूमि का मान Mathrubhumi ka Maan मातृभूमि का मान सारांश -   मातृभूमि का मान श्री हरिकृष्ण प्रेमी जी द्वारा लिखी गयी एक प्रसिद्ध ऐतिहा...

और जानिएं »

0
बिसाती / जयशंकर प्रसाद की कहानी
बिसाती / जयशंकर प्रसाद की कहानी

बिसाती / जयशंकर प्रसाद की कहानी उद्यान की शैल-माला के नीचे एक हरा-भरा छोटा-सा गाँव है। वसन्त का सुन्दर समीर उसे आलिंगन करके फूलों के सौर...

और जानिएं »

0
अंश ढूँढ़ता फिरता हूँ
अंश ढूँढ़ता फिरता हूँ

अंश ढूँढ़ता फिरता हूँ  नजर है पड़ती जब बगिया पर, बस सूनापन ही दिखता है । इधर उधर इन झोंपडियों से  बस धुँआ सा उठता दिखता है । बरगद के नी...

और जानिएं »

0
प्रकृति के सौंदर्य का मानव मस्तिष्क पर प्रभाव
प्रकृति के सौंदर्य का मानव मस्तिष्क पर प्रभाव

प्रकृति के सौंदर्य का मानव मस्तिष्क पर प्रभाव आधुनिक काल में मनुष्य की  जिंदगी में भाग-म-भाग बढ़ने व  अधिक काम  के बोझ के तले और व्यर्थ ...

और जानिएं »

1
खुली किताब हूँ
खुली किताब हूँ

खुली किताब हूँ मै कवि नही हूँ खुली किताब हूँ पन्ने पलटकर तो देखो आभासी नही साक्षात् हूँ फिर न कहना राहुल कुमावत  बंद जंजीरो में ...

और जानिएं »

1
कैसे हो गजानन ?
कैसे हो गजानन ?

कैसे हो गजानन ? कैसे हो गजानन अबकी साल। भारत में तो मचा है धमाल। जी एस टी से व्यापारी हैं बेहाल। दलालों की नही गल रही है दाल। जमाखोर...

और जानिएं »

1
ऐ मोहब्बत तेरे अंजाम पे रोना आया
ऐ मोहब्बत तेरे अंजाम पे रोना आया

ऐ मोहब्बत तेरे अंजाम पे रोना आया  Aye Mohabbat Tere Anjaam Pe ऐ मोहब्बत तेरे अंजाम पे रोना आया जाने क्यूँ आज तिरे नाम पे रोना आय...

और जानिएं »

0
अवकाश के लिए प्रार्थना पत्र
अवकाश के लिए प्रार्थना पत्र

अवकाश के लिए प्रार्थना पत्र Application to the Principal for sick leave. १३५ , विकासनगर नयी दिल्ली - ४५ सेवा में , प्रधानाचार्य म...

और जानिएं »

0
कक्षा में प्रवेश की आज्ञा के लिए  पत्र
कक्षा में प्रवेश की आज्ञा के लिए पत्र

कक्षा में प्रवेश की आज्ञा के लिए  पत्र Apology Letter for Being Late For School १३५ विकासनगर नयी दिल्ली दिनांकः ०४/०८/२०१७ सेव...

और जानिएं »

5
संस्कार और भावना Sanskaar aur Bhavna
संस्कार और भावना Sanskaar aur Bhavna

संस्कार और भावना Sanskaar aur Bhavna संस्कार और भावना समरी - संस्कार और भावना , विष्णु प्रभाकर जी द्वारा लिखित एक प्रसिद्ध एकांकी है ....

और जानिएं »

1
गणपति आराधना
गणपति आराधना

गणपति आराधना घोर त्वं अघोर त्वं भाव त्वं विभोर त्वं सिद्धि त्वं प्रसिद्धि त्वं क्षरण त्वं वृद्धि त्वं अखंड बुद्धि शुद्धि त्वं गणपत...

और जानिएं »

0
बदरा बरसा हैं
बदरा बरसा हैं

बदरा बरसा हैं घनघोर घटा संग हवा "प्रेम" मेघ बन बरसा है।                  श्याम बिन मन बावरा                  और, बदरा सावन...

और जानिएं »
 
 
Top