1
Advertisement

हे शिव शम्भू

हे शिव शम्भू इस श्रावण में कैसे तेरा गुण गान करूँ।
शिव शम्भूभक्तों की लाशों पर चढ़कर कैसे तुझे प्रणाम करूँ।

निर्दोषों की बलि चढ़ा कर अत्याचारी मुस्काते हैं।
तेरे मंदिर के रस्ते में मासूम गोली से भूने जाते हैं।
हे शिव शंकर आतंकी मंसूबों को कैसे नाकाम करूँ।
भक्तों की लाशों पर चढ़कर कैसे तुझे प्रणाम करूँ।

तेरे चरणों की भक्ति प्राणों का संताप हरे।
तेरी पूजा इस जीवन में नव ऊर्जा संचार करे।
हे शिव शंकर इन दुष्टों का कैसे काम तमाम करूँ।
भक्तों की लाशों पर चढ़कर कैसे तुझे प्रणाम करूँ।

इस सावन में हे प्रभु जी मेरी ये सुनवाई हो।
जिंदा दफन हो जाय जमीं में जिसने गोली चलाई हो।
दुष्ट दरिंदों का मैं कैसे कत्ले आम करूँ।
भक्तों की लाशों पर चढ़कर कैसे तुझे प्रणाम करूँ।

हे शिव शम्भू इस श्रावण में कैसे तेरा गुण गान करूँ।
भक्तों की लाशों पर चढ़कर कैसे तुझे प्रणाम करूँ।


- सुशील शर्मा

एक टिप्पणी भेजें

  1. बेहतरीन लेख ... तारीफ-ए-काबिल ... Share करने के लिए धन्यवाद। :)

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top