0
Advertisement

सबके हक के वास्ते

सबके हक के वास्ते सरकार होनी चाहिए 
एक हो कानून एक अधिकार होना चाहिए 
दुश्मनी  के बीज बोकर हो नही सकता भला
हो भले तकरार लेकिन प्यार होना चाहिए 
गर उठाना है जहाँ मे मान अपने देश का
जो गलत हो बात उसमे सुधार होना चाहिए 
सबका हो सम्मान सबको साथ लेकर चल पड़ो
ये बदलते वक्त का आधार होना चाहिए 
देश है जब एक तो हम देशवासी एक है
जो सही हो मांग वो स्वीकार होना चाहिए 
आज अब से ही सपथ लो भेद सब मिट जायेगा
बन्द अब नफरत का कारोबार होना चाहिए 
हम अमन की राह पर एक साथ बढ़ते बढ़ चले
ये पहल -हर एक का उद्धार होना चाहिए 
है तरक्की कर रहा हर देश हम पीछे है क्यों
इस नये अभियान मे ललकार होनी चाहिए 
है शिवानी ये नया सन्देश सबके वास्ते
अब नयी किरणों का शुभ संचार होना चाहिए 
               डॉ. शिवानी सिंह

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top