0
Advertisement

रिश्ते

आसमान से हरदम ऊँचे सागर से गहरे रिश्ते
खून के रिश्तों से भी बढकर गहरे होते दिल के रिश्ते।
रिश्ते होते हैं बेहद अनमोल
बस अपनों की खुशियाँ ही होती हैं इनका मोल।
एक बार जो टूटे रिश्ते दोबारा नहीं जुड पाते हैं
आगर दोबारा जुड भी जाये दर्द गांठ का सह नहीं पाते हैं।
रिश्ते होते हैं इंसान की जीवनभर की पूँजी
रिश्ते होते हैं इंसान की सफलता की कुँजी।
दुनिया क्या है रिश्तों का एक जाल है
इस जाल को जोडकर न रखने वाला मनुष्य कंगाल है।
पैसे होते जेब में तो चार लोग रिश्ता बनाते हैं
जरा गरीबी आ जाये तो वहीं लोग साथ छोड जाते हैं।
हम सब अपनों का रखे ख्याल
अपने-अपने रिश्तों को रखे संभाल।




यह रचना विशाल गर्ग जी द्वारा लिखी गयी है.आप खुर्जा, उत्तर प्रदेश से हैं .आपने एम् .कॉम तथा बी.एड तक शिक्षा प्राप्त की है तथा शिक्षक के रूप में कार्यरत हैं .

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top