0
Advertisement

नारी तेरी यही कहानी

नारी तेरी यही कहानी क्युँ है
हर आँखो मे इतना पानी क्युँ है
क्युँ हर दर्द सहे खामोशी से
नारी
नारी
चुप रह कर
क्युँ शरमाता है आँशू तेरी आँखो से
बह कर
तू अब भी अबला बेचारी क्युँ है
हर आँखो मे इतना पानी क्युँ है
सदिया बीत गई है
बदल गया जग सारा
पर क्युँ  नही  रुकी तेरे
आँखो की धारा
हालत तेरी अब भी                                
जस की तस है
तू अब भी लगती कितनी
बेबस है
व्यर्थ तेरी सारी कुर्बानी क्युँ है
हर आँखो मे इतना पानी क्युँ है
तेरे पीर न हरता क्युँ वो जो ऊपर बैठा है
सबका पालनहार भला तुझसे ही क्युँ ऐठा है
क्युँ निर्मम् होकर वो देखे रोज तमाशा
देने आया नही तुझे क्युँ कोई दिलाशा
तेरी दुनियाँ यूँ बीरानी क्युँ है
हर आँखो मे इतना पानी क्युँ है
       
        डा.शिवानी सिंह

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top