3
Advertisement

मुक्ति

एक छोटी सी कागज की
हमारे बीच मे दीवार है
और लोग कहते हैं
तकरार में भी प्यार है,
मुक्ति
रूठने का मजा तब है
जब मनाने वाला हो,
जिसे कोई मनाने वाला न हो
उसके लिए सब बेकार है।

मुझे वो चाहत भी स्वीकार थी,
ये नफरत भी सिरोधार्य है।

मैं अपराधी हूँ
नछम्म अपराध की,
बँधी हूँ कुटिल काल के
हाथो में,
या जूझ रही हु किसी
श्राप से,

मुक्ति कही दिखती नही
स्त्री होने के पाप की,
इतनी निर्मम है दुनिया
की कोई साथ नही देता,
जैसा दिखता है सब
वैसा नही होता।।


रचनाकार परिचय 
श्रद्धा मिश्रा
शिक्षा-जे०आर०एफ(हिंदी साहित्य)
वर्तमान-डिग्री कॉलेज में कार्यरत
पता-शान्तिपुरम,फाफामऊ, इलाहाबाद

एक टिप्पणी भेजें

  1. बधाई हो !आप की कविता के लिए
    आप की कविता की लाइन बहुत सुन्दर है छोटी सी लाइन से बात को उठाकर एक बहुत बड़ी बात बात कह जाना आप की कविता में बहुत शोभनीय है ।

    उत्तर देंहटाएं
  2. अतिसुन्दर कविता

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top