0

किस्सा  बेसिरपैर  - प्रभात त्रिपाठी       


किताब के विषय में:

यह उपन्यास स्मृतियों की किस्सागोई है जिसके केन्द्र में इतिहास प्रवर्तक घटनाएँ और व्यक्तित्व नहीं हैं। हो भी
किस्सा  बेसिरपैर
किस्सा  बेसिरपैर
नहीं सकते; क्योंकि वे हमारे दैनिक जीवन से दूर कहीं, वाकई इतिहास नाम की उस जगह में रहते होंगे, जहाँ तनखैये इतिहासकार बगल में कागज-कलम-कूची लेकर बैठते होंगे। हमारे इस जीवन में जिनकी मौजूदगी, बस कुछ डरावनी छायाओं की तरह दर्ज होती चलती है। हम यानी लोग, जिनके ऊपर जीवन को बदलने की नहीं, सिर्फ उसे जीने की जिम्मेदारी होती है।
यह उन्हीं हममें से एक के मानसिक भूगोल की यात्रा है, जिसमें हम दिन-दिन बनते इतिहास को जैसे एक सूक्ष्मदर्शी की मदद से, उसकी सबसे पतली शिराओं में गति करते देखते हैं। जो नंगी आँखों दिखाई नहीं देती। वह गति, जिसका दायित्व एक व्यक्ति के ऊपर है, वही जिसका भोक्ता है, वही द्रष्टा। वह गति जो उसकी भौतिक-सामाजिक-राजनीतिक उपस्थिति के इहलोक से उधर एक इतने ही विराट संसार की उपस्थिति के प्रति हमें सचेत करती है।
लेखक यहाँ हमारे इहलोक के अन्तिम सिरे पर एक चहारदीवारी के दरवाजे-सा खड़ा मिलता है, जो इस वृत्तान्त में खुलता है; और हमें उस चहारदीवारी के भीतर बसी अत्यन्त जटिल और समानान्तर जारी दुनिया में ले जाता है, जो हम सबकी दुनिया है, अलग-अलग जगहों पर खड़े हम उसके अलग-अलग दरवाजे हैं।
उन्हीं में से एक दरवाजा यहाँ इन पन्नों में खुल रहा है।
अद्भुत है यहाँ से समय को बहते देखना।
यह उपन्यास सोदाहरण बताता है कि न तो जीना ही, केवल शारीरिक प्रक्रिया है, और न लिखना ही।

लेखक परिचय:

प्रभात त्रिपाठी
जन्म : 14 सितम्बर, 1941, रायगढ़ (छ.ग.)। शिक्षा : एम.ए., पी-एच.डी., सागर विश्वविद्यालय (म.प्र.)।
1994-95 में म.प्र. साहित्य अकादमी के सचिव, 2002-03 में महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी वि.वि. में अतिथि लेखक।
प्रकाशन : खिड़की से बरसात (अशोक वाजपेयी द्वारा सम्पादित 'पहचानÓ सीरिज), नहीं लिख सका मैं, आवाज, जग से ओझल, सड़क पर चुपचाप, लिखा मुझे वृक्षों ने, साकार समय में, बेतरतीब, कुछ सच कुछ सपने (कविता); तलघर और अन्य कहानियाँ (कहानी); सपना शुरू, अनात्मकथा (उपन्यास); प्रतिबद्धता और मुक्तिबोध का काव्य, रचना के साथ, पुनश्च, तुमुल कोलाहल कलह में  (आलोचना)।
ओड़िया से अनुवाद : समुद्र : सीताकान्त महापात्र, सीताकान्त महापात्र की प्रतिनिधि कविताएँ, गोपीनाथ महांती की कहानियाँ, अपार्थिव प्रेम कविता : हरप्रसाद दास, वंश : महाभारत कविता : हरप्रसाद दास, शैल कल्प : राजेन्द्र किशोर पंडा।
सम्पादन : पूर्वग्रह  के प्रारम्भिक अंकों के सम्पादन में विशेष सहयोग, 1994-95 में म.प्र. साहित्य अकादमी की पत्रिका साक्षात्कार का सम्पादन, महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय के लिए भवानीप्रसाद मिश्र की रचनाओं के संकलन का सम्पादन, चन्द्रकान्त देवताले की कविताओं का सम्पादन।
पुरस्कार : वागीश्वरी पुरस्कार, माखनलाल चतुर्वेदी सम्मान, सौहार्द्र पुरस्कार, शमशेर सम्मान, मुक्तिबोध सम्मान, कृष्ण बलदेव वैद सम्मान आदि।
सम्पर्क : रामगुड़ी पारा, रायगढ़-496001

प्रकाशक : राजकमल प्रकाशन ,अंसारी रोड ,दरियागंज ,दिल्ली 
बाईंडिंग  : हार्डबाउंड 
मूल्य : 599 
पेज : 368   
आई एस बी एन : 978-81-267-3043-8    

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top