0
Advertisement

कौन है वह


दूर बहुत दूर रहती है वो
जाने किस देश में बस्ती है वो
अजब मन चंचल है उसके प्रति
कभी समर्पित तो कभी उद्दंड है
उसे प्रेम का अर्थ पता है
जीवन की सच्चाई समझती है वो
कहती है नारी हूँ मैं
प्रेम की पूर्ण परिभाषा हूँ मैं
क्यूँ नहीं समझते मेरे ह्रदय की व्याकुलता को
प्रेम के उस कठिन पथ को
दूर हो गई तो रह न पाओगे
मेरी अनुपस्थिति क्या सहन कर पाओगे?
मेरे ही प्रश्नों का उत्तर ढूंढती है वो
जाने किस देश में बस्ती है वो
----------------
शम्स तमन्ना
लेखक डीडी न्यूज़, दिल्ली में असिस्टेंट प्रोडूसर के पद पर कार्यरत हैं. 11 वर्षों से पत्रकारिता के क्षेत्र में सक्रियता के बावजूद कहानी लेखन, कविता और शेर-ओ-शायरी से इनकी गहरी दिलचस्पी रही है. उन्हें अपने सुझाव इस नंबर पर दे सकते हैं 09350461877.
Attachments area

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top