2
Advertisement

घर आ जाना

अंधियारा तम जब घिर जाए
राह कहीं जब नजर न आए।
मन के कोने दीप जलाना।
तुम चुपके से घर आ जाना।

जब भी टूटे हृदय तुम्हारा।
लगे जगत ये सूना सारा।
द्वार मेरा तुम तब खटकाना।
तुम चुपके से घर आ जाना।

इस दुनिया से मन भर जाए।
मन तुमसे धोखा कर जाए।
धीरे से आवाज़ लगाना।
तुम चुपके से घर आ जाना।

जब आंसू आंखों झर जाए।
सावन जब आगी बरसाए।
अपने हिय को मत तरसाना।
तुम चुपके से घर आ जाना।

अपने जब तुमको ठुकरायें।
आँचल में कांटे भर जाएं।
ऐसे में तुम मत घबड़ाना।
तुम चुपके से घर आ जाना।


- सुशील शर्मा

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top