1
Advertisement

आग

आग में सीककर
रोटियाँ
हो जाती है तैयार
किसी के पेट की 
आग
बुझाने को,
आग

आग मिलाती थी
चौपार पे
बच्चे को बाप के विचारों से,
कुनबे की आधी से अधिक
समस्याएं 
ठण्ड की आग में समाधी ले लेती थी,

आग आरम्भ थी
दो कुलो को जोड़ने की साक्षी,
तब जाना था कितनी पवित्र होती है,
कितनी ताकत है इस आग की प्रथा में,
यही तो लिखा भी है फाग की कथा में।
बुराई ही मरती है
अच्छाई तपकर 
खरा सोना बन जाती है।

पर ये क्या लिखा है 
आज के अख़बार में,
एक अबला जल गई आग में,
तब्दील हो गयी राख में,
सुनने में आया है 
की रोटी बना रही थी,
रोटी तो वो रोज बनाती थी,
पर किसी की
भूख नही मिटा पा रही थी।

आग एक फिर मेरे 
मन को जला रही है,
ये भूख इतनी क्यों बढ़ती जा रही है,
वही रोटी तो बेटी भी बनाती है,
मगर वही रोटी बनाने में
बहू कैसे जल जाती है।


रचनाकार परिचय 
श्रद्धा मिश्रा
शिक्षा-जे०आर०एफ(हिंदी साहित्य)
वर्तमान-डिग्री कॉलेज में कार्यरत
पता-शान्तिपुरम,फाफामऊ, इलाहाबाद

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top