2
Advertisement

देख ! वो जो आ रहा

देख ! वो जो आ रहा 
बुत बना ख़ामोश सा 
हृदय में भरती जा रही 
नित्य ही आवेश सा,
ध्रुव सिंह "एकलव्य''
ध्रुव सिंह "एकलव्य''

देख ! वो जो आ रहा 
बुत बना ख़ामोश सा।  

मुट्ठी बाँधे तूं खड़ा है 
लाचार सा,असहाय सा 
कर समेकित ज्ञान को 
आत्मा में आवेग सा,

देख ! वो जो आ रहा 
बुत बना ख़ामोश सा।  

टपक रहीं हैं ! रक्त बूँदें 
शौर्य का द्योत्तक यही 
चक्षु से निकलीं हैं माना 
संदेश हैं तुझको वही,

देख ! वो जो आ रहा 
बुत बना ख़ामोश सा। 

उठ खड़ा ! तूं मेदनी पर 
प्रलय सा ताण्डव दिखा !
नेत्र तेरे नींद में हैं 
उनमें थोड़ा जल सजा ,

देख ! वो जो आ रहा 
बुत बना ख़ामोश सा। 

देख ! वो ले जा रहें 
अस्मिता,तेरे हाथ से 
रोक ले ! उनको अभी 
एक नया दिनकर
तूं ला !

देख ! वो जो आ रहा 
बुत बना ख़ामोश सा। 

डर नहीं ! तूं 
वो हैं कायर 
जो चलें, कुमार्ग पे 
तूं अडिग सा 
बन खड़ा रह !
बिम्ब सत्य का,
तूं अजेय !

देख ! वो जो आ रहा 
बुत बना ख़ामोश सा।  

अजात शत्रु ! तूं  नहीं है    
शत्रु तेरे जात हैं
निर्णय करेंगे !
युद्ध केवल 
विजयश्री अथवा हार के 

देख ! वो जो आ रहा 
बुत बना ख़ामोश सा।  

खो दिया ! जो आज तूने 
स्वर्ण अवसर भीरु बन 
धिक्कारेगी ! ये आत्मा 
चिरस्थाई जीवन सा  

देख ! वो जो आ रहा 
बुत बना ख़ामोश सा। 

रचनाकार परिचय - 
ध्रुव सिंह "एकलव्य''
उपनाम : 'एकलव्य' ( साहित्य में )
जन्मस्थान : वाराणसी 'काशी'
शिक्षा : विज्ञान में परास्नातक उपाधि
सम्प्रति : कोशिका विज्ञान(आनुवांशिकी ) में तकनीकी पद पर कार्यरत ( संजय गाँधी स्नातकोत्तर आयुर्विज्ञान संस्थान ) लख़नऊ ,उत्तर प्रदेश ,भारत
साहित्य क्षेत्र : वर्तमान में  kalprerana.blogspot.com नाम से ब्लॉग का संचालन एवं विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं और समाचार पत्रों में हिंदी कवितायें प्रकाशित।
'अक्षय गौरव' पत्रिका में स्थाई लेखक 

एक टिप्पणी भेजें

  1. आदरणीय, मेरी रचना "देख ! वो जो आ रहा" को सम्मान देने के लिये हृदय से आभार व्यक्त करता हूँ। "एकलव्य"

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top