2
Advertisement

 विश्व तम्बाखू निषेध दिवस 


 दोहे
🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸
तम्बाखू मुंह मे रखें, आती मौत करीब।
अपने पीछे छूटते, बनते लोग गरीब।
🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸
विश्व तम्बाखू निषेध दिवस
गुटका पान चबाय के, लोग दिखाते शान।
सिगरेटों की आग में ,टूटे सब अरमान।
🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸
लतें तम्बाखू से भरी,बहुत बुरी श्रीमान।
केंसर कोढ़ बुलाय के, लोग गंवाएं जान।
🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸
जीवन ये अनमोल है, नशा बिगाड़े बात।
तन मन को जर्जर करे, घर मे दुख बरसात।
🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸🌸
पान तम्बाखू छोड़ कर, काम करो तुम नेक।
जीवन सुखद बनाय के,खुशियां चुनो अनेक।
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺
      



    *कुंडलिया*

गुटखा पान चबाय के,लोग दिखाते शान।
सिगरेटों की आग में,टूटे सब अरमान।
टूटे सब अरमान,केंसर द्वार को तांके।
हृदय रोग तड़फाय, मौत आंखों में झांके।
कह सुशील कविराय,नशा देता है झटका।
नशा नाश का मूल, मत चबा खैनी गुटखा।
💐💐💐💐💐💐💐💐


- सुशील शर्मा

एक टिप्पणी भेजें

  1. आपकी इस पोस्ट को आज की बुलेटिन विश्व तम्बाकू निषेध दिवस और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति! लोग तम्बाकू छोड़ें, यह उनके हित में है!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top