0
Advertisement

श्रद्धांजलि

                         
बौड़मदास मेरा मित्र था
वह रोशनी का रखवाला
लड़ाई लड़ रहा था
सुशांत सुप्रिय
सुशांत सुप्रिय
अँधेरे के खलनायकों के विरुद्ध

उसे तो ख़त्म होना ही था एक दिन
उसके साथ केवल मुट्ठी भर लोग थे
जबकि अँधेरे की पूरी फ़ौज थी
उसके विरुद्ध

पर नाकों चने चबवा कर गया
वह प्रकाश-पुंज
अँधेरे के एजेंटों को

सवेरा लाने के लिए लड़ा था वह
एक नाज़ुक दौर में
घुप्प अँधेरे के दानवों से ...

काश , हर आदमी बौड़म दास हो जाए
सब के हृदय में सुबह की आस हो जाए

                    ----------०----------

                           2. अगली बार
                        ---------------
                                                  --- सुशांत सुप्रिय
यदि आया तो
अगली बार बेहतर बन कर
आना चाहूँगा यहाँ

झूठ और अवसरवादिता के
अक्ष पर टिका हुआ नहीं
बल्कि मनुष्यता की धुरी पर
घूमता हुआ आना चाहूँगा

अपनों को और समय दूँगा
सपनों को और समय दूँगा

यदि आया तो
अगली बार दुम हिलाने
नहीं आना चाहूँगा
छल-कपट करके खाने
नहीं आना चाहूँगा

सही बात कहूँगा
तुच्छताओं की ग़ुलामी
नहीं सहूँगा

यदि आया तो
अगली बार सूर्य-किरण-सा
आना चाहूँगा
श्रम करते जन-सा
आना चाहूँगा

यदि आया तो
अगली बार
आँकड़ा बन कर नहीं
आदमी बन कर
आना चाहूँगा यहाँ

                   ----------०----------

                          3. आदमकद सोच
                        ------------------
                                                       --- सुशांत सुप्रिय
कितना भी उगूँ
जुड़ा रहूँ अपनी जड़ों से
जैसे गर्भ-नाल से
जुड़ा रहता है
गर्भ में पलता शिशु

कितना भी बढ़ूँ
बँधा रहूँ अपने उद्गम-स्थल से
जैसे बँधे रहते हैं प्रेमी-प्रेमिका
फ़ौलाद और चाशनी की
डोरी से

कितना भी सोऊँ
जगा रहूँ अपने कर्तव्यों के प्रति
जैसे जगी-सी रहती है
अबोध शिशु की माँ नींद में भी
बगल में पड़े शिशु के कुनमुनाने से

                   ------------०------------

प्रेषक : सुशांत सुप्रिय
           A-5001 ,
           गौड़ ग्रीन सिटी ,
           वैभव खंड ,
           इंदिरापुरम् ,
           ग़ाज़ियाबाद - 201014
           ( उ. प्र. )
मो :  8512070086
ई-मेल : sushant1968@gmail.com

                 ------------0------------

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top