0
Advertisement

कच्चा घर 

अंदर मन की खूंटी पर टंगे रहने दो सपने ,
डॉ संगीता गांधी
डॉ संगीता गांधी 
बाहर हालात की आँधियों में बिखर जाएंगे ।
आओ एक बार लौट कर देखें वो घर --- जो पीछे छोड़ आये हैं !
आज शहर की पाश कॉलोनी के -
आलीशान फ्लैट के बीच -
ढूंढते है वो घर ,जहां पकड़ते थे तितली ,खेलते छुप्पन छुपाई ।
रात को आंगन की चारपाई पर देर तक बतियाते थे ।
वो कच्चा ,छोटा घर ,
आंगन में जलता चूल्हा ,पीतल के बर्तन !
मटके का पानी बहुत याद आता है ।
काश वो  कच्ची मिट्टी वाली जमीन ही मुबारक रहती !
वहां मैं बहुत सुकून से थी ।
मुश्किल है आसमान पे चलना ,
बिखरे तारे पैरों में चुभते हैं ।
मेरा कच्चा घर कहीं खो गया है --
आओ 'मेरे दर्द' खोजें उसको ।



डॉ संगीता गांधी 
एम फिल ,पी एचडी।
नई दिल्ली ।

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top