0
Advertisement

कौन बनके आया आईना मेरा

पर्दा ही अपने फ़र्ज़ में क्यूँ नाक़ाम रहा मेरा!
कौन बनके आया आईना मेराहाय! ये कौन बनके आया आईना मेरा!!
परत दर परत में छुपा रखा था जिसे!
बेपर्दा हुआ जा रहा है मन मेरा!
वो कभी गैर भी है, कभी अपना भी
कभी सच भी है कभी सपना मेरा !
हाय! ये कौन बनके आया आईना मेरा!!
वो मेरी मंज़िल, मेरी राह, हमक़दम भी नहीं मेरा!
मेरी मुहब्बत, मेरा ख़्याल, सनम भी नहीं मेरा!
फिर क्यूँ दिखा मुझे उसमे नक़्श मेरा!
हाय! ये कौन बनके आया आईना मेरा!!
वो कौन सी आहट जो आह भी भरती नहीं!
साफ़ ख़्याल भी नहीं, साफ़ मुकरता भी नहीं!
तपिश-ए-तमन्ना में जलता है 'अलमास' दिल मेरा!
हाय! ये कौन बनके आया आईना मेरा!!
                                                               
शेख अलमास इमरान, मध्य प्रदेश के खरगौन से हैं और वर्तमान में अंग्रेजी साहित्य से स्नातोकोत्तर, अंतिम वर्ष की छात्रा हैं. उर्दू और हिंदी कविता में इनकी विशेष रूचि है.
संपर्क- sarahshamstamanna@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top