0
Advertisement

इलाहाबाद का नजारा

कई शहर तो अपने में मायने रखते हैं लेकिन इलाहाबाद की माटी की खुशबू ही कुछ नया है जिसे इलाहाबाद की खूबियाँ देखनी हो तो उसे इलाहाबाद में आना चाहिये और इसकी सुगंध लेनी चाहिये | जिसका
इलाहाबाद
इलाहाबाद
जन्म इलाहाबाद की गोद में हुआ है | वह सच्चा इलाहाबादी है | उसके रगों में बहता है इलाहाबाद का साहित्य,यहाँ का दर्शन आकर्षित करता है, यहाँ के खेत खलिहान पेड़ पौधें यहाँ की जादूगरी बातें ,यहाँ की गंवई रंगत, बड़की अम्मा की सुहाती बात, निरालाजी का दारागंज तो महादेवी की संवेदना से भरी रचनायें और यहीं पर जन्मी कैलाश गौतम की गंवई मार्मिक कविता, गंगा जमुनी तहजीब की अहमियत, शहर की यादें, सरपट भागती गाड़ियाँ,इलाहाबाद की प्रत्येक गलियों में मिल जायेगें कवि,वकील और भैंस | यहाँ की शान है, और तो और हर गली में पढ़ाकू छात्र और यहीं है संगम और त्रिवेणी जो देवभूमि की माटी है | इन्हीं कारणों से इलाहाबाद की अपनी रौनक बनी है जिसे भुलाया नहीं जा सकता है | याद करने के लिये बहुत कुछ है भुलाने के लिये कुछ भी नहीं है जो इलाहाबाद को सच्चे मन से चखा है और इलाहाबाद को लेकर जिया है | वह भरपूर आनंद व सम्मान पाया है |
    
    मुझे बचपन में इलाहाबाद खराब लगा और खराब सोंच लिया कि यहाँ बात-बात पर मारपीट हो जाती है | इलाहाबाद वारदातों का भूखा शहर है | गरीबों की बस्ती है | दलालों का अड्डा है | जुआरियों का घर है | औरतों की इज्जत लूटने वाला शहर, लोगों की हत्या कर देने वाला शहर,अनाथों की बस्ती उजाड़ दी जाती है |  विधवाओं का अपमान इलाहाबाद की शान है | मैं इलाहाबाद को घटिया समझ लिया, यही सोंच कर इलाहाबाद छोड़कर भाग गया | दिल्ली मुंबई की गलियों का खाक छानने लगा | बाद में एहसास हुआ कि यहाँ इन शहरों में तो बहुत गंदे लोग हैं | गंदी-गंदी बातें होती है, गंदी वारदात होती है,दया नाम की चीज नहीं है,पैसा ही यहाँ के लोगों का माई बाप है, माँ की भी इज्जत नहीं, यहाँ तो आत्मीयता नाम की चीज नहीं है | बड़ा निर्दयी शहर लगा | ये शहर जिसका मैंने बहुत नाम सुना था | तमाम तथ्यों के गहन अध्ययन के बाद वहाँ से झोला झंडा लेकर सुबह वाली ट्रेन से भागा | अगले दिन सुबह इलाहाबाद की माटी को चूम लिया और कहा धत्त तेरे नामी शहर की, यही दिल्ली मुंबई है,जहाँ बिना गाली की बात नहीं होती है, जहाँ अपनी ही कोई इज्जत नहीं | तभी से मैं इलाहाबाद के करीब हो गया, आज भी मजे की जिंदगी है | इलाहाबाद में देशी घी खाकर आठ दस घंटे इलाहाबाद के खेतों में काम करता हूँ और साहित्य जमकर लिखता हूँ | लेखक व कवि भी बन गया हूँ | वहाँ से भागा न होता तो सीधा शातिर अपराधी होता, तिहाड़ जेल की रौनक होता |
       
     इस इलाहाबाद की माटी में हमने बहुत कुछ सीखा | बहुत कुछ पाया | स्वयं का व्यक्तित्व भी बना डाला | लोगों में मेरी अपनी पहचान है | इलाहाबाद ही ऐसी नगरी है जहाँ सब कुछ सस्ते में मिल जाता है | यहाँ की अपनी संस्कृति व संस्कार है, यहाँ का देशी लिबास है,देशी ठर्रा भी है | भांग भी मिल जाता है | नमकीन तो हर गली की दुकानों पर मिल जाता है | समोसा के बिना कोई मिठाई की दुकान न होगी | खोवा की मंडी है तो सब्जी की मंडी भी है | बड़ी बडी़ इमारतें हैं तो झोपड़पट्टी भी है | चमचमाती कार में जाता जज, वकील मिल जायेंगें | रिक्शा में बैठा कवि व लेखक शहर का अवलोकन करते हुये मिल जायेंगें | गाँव में भाभी अपने बेटवा के तेल मालिश करती मिल जायेगी | बड़की अम्मा गाय को भूसा सानी करती मिल जायेगी | दादा जी हुक्का थामें पुरानी बातों में मस्त मिल जायेंगें | गाँव की छोकरी कूदती फांदती मिल जायेगी तो गाँव का छोरा भोजपुरिया गीत गाते मिल जायेगा | लिपाई पुताई करती चाची मिल जायेगी तो शहर में बड़ी बड़ी मैम मिल जायेगी | चश्मा लगाये शहर की छोकरी युवाओं की शान को बढ़ाते मिल जायेगी तथा पुराने मुकदमें के लिये तीसरी पीढ़ी कोर्ट कचेहरी का चक्कर लगाते मिल जायेगी | और तो और हर महीने गाँव या शहर की गली में दुल्हा भी मिल जायेगा | मंदिर मस्जिद में भक्तों की भीड़ मिल जायेगी | दूध दही तो हर घर में मिल जायेगा | स्कूल यूनिवर्सिटी सब मिल जायेंगें | यहीं मिल जायेंगें मंत्री संत्री,  बड़ेबाबू भी मिल जायेंगें | इलाज के लिये बड़ी-बड़ी हॉस्पिटल मिल जायेगी | जब सब कुछ यहीं है तो और जगह जाने की बात इलाहाबदियों के दिल में आता है तो उसका आँगन समझों कि सूना ही रह जायेगा |
   
       
जयचन्द प्रजापति 'कक्कू जी'
जयचन्द प्रजापति 'कक्कू जी'
इलाहाबाद को छोड़ने के लिये हमें भी मजबूर किया गया लेकिन हमने साफ-साफ कह दी कि हम पक्के इलाहाबादी हैं | गर्दन कट जाये, चाहे मेरी इज्जत की मटियामेट करने वाले कर ही दे लेकिन मैं सिर नहीं झुकाऊँगा | पत्नी भी दबाव बनाई की इस लेखकी से कुछ होने वाला नहीं है | बाल बच्चे वाले हो गये हैं | कुछ कमाईये रोटी दाल, क्या निरालाजी के रिश्तेदार देने आयेंगें , वह ताव खा गई कि इलाहाबाद छोड़ दो, बहुत गाथा इलाहाबाद की गाते रहते हो,अगर तुम इलाहाबाद नहीं छोड़ोगे, हम तुम्हें ही छोड़ देगें | सचमुच छोड़ दिया, कुछ दिन के लिये, कुछ समय के लिये वह मायके चली गई,  बाद में वह समझी कि यह इलाहाबादी हो गया है | किसी भी हालत में इलाहाबाद नहीं छोड़ेगा, आखिर वह मेरे पास आ ही गई, हमने कह दिया, इलाहाबाद हम नहीं छोड़ेंगें चाहे तुम्हें छोड़ने की ही नौबत क्यों न आ जाये |
       
         इलाहाबाद के संगम रेती पर चले जाइये, वहाँ साधु संतों का डेरा मिल जायेगा | तंबुओं का मेला कुंभ इलाहाबाद की शान | विदेशी भी आते हैं, यहाँ की भोली भाली सादगी देखकर, हर तरह का भेषभूषा, यहाँ पंजाबी भी मिल जायेंगें | गुजराती यहीं मिल जायेंगें, मराठी भी मिल जायेंगें | काश्मीरी भी यहाँ बसा हुआ मिल जायेगा | देशी विदेशी सब प्रकार का लुक, कई प्रकार की बोलियाँ भाषा मिल जायेगी | विद्वानों की यहाँ लम्बी फेहरिस्त है | इलाहाबाद की तमाम खाशियत है जो लोगों को खींच ला रही है और इस प्रकार जादू टोना लग जाता है कि उसे यहाँ से जाने का मन ही नहीं करता है | देवता भी इलाहाबाद का दर्शन करने के लिये तरसते हैं | यहाँ हर जाति कौम के लोग मिल जायेंगें | यहाँ हिन्दू ,मुस्लिम,सिक्ख,ईसाई सब मिल जायेेंगें, मंदिर, मस्जिद, चर्च ,गुरूद्वारा भी मिल जायेगा, जोगी बैरागी भी मिल जायेंगें | भूखें प्यासे को भोजन पानी कराता दयालु सज्जन भी मिल जायेंगें | नेता अभिनेता भी मिल जायेंगें | कई बड़े बड़े कलाकार मिल जायेंगें | बड़ी बडी कलाकृतियाँ व पार्क मिल जायेंगें | ज्योतिषी भी मिल जायेगा |
   
      भुलाया ही नहीं जा सकता है इस तरह का शहर , इस तरह के गाँव | जहाँ इस तरह की बातें हो,ऐसा नजारा हो, मानवीय संवेदना जहाँ हर हृदय में उबलता हो, करूणा का सागर जहाँ इस तरह से हो,  उसको भुलाया ही नहीं जा सकता है | मधुर वाणी तो हर जिह्वा की निशानी है | दया व उपकार यहाँ की संस्कृति है | बड़ों का यहाँ सम्मान ही यहाँ का संस्कार है | साहित्य यहाँ की पूज्यनीय देवी की तरह है | अनुशासन यहाँ का सबसे लोकप्रिय है | सच्चा प्रेमी तो इलाहाबाद के हर कोने-कोने में मिल जायेगा | हर चेहरे पर भोला मुश्कान यहाँ की नरमशीलता है और बहुत कुछ है इस शहर में ...


यह रचना जयचंद प्रजापति कक्कू जी द्वारा लिखी गयी है . आप कवि के रूप में प्रसिद्ध हैं . संपर्क सूत्र - कवि जयचन्द प्रजापति 'कक्कू' जैतापुर,हंडिया,इलाहाबाद ,मो.07880438226 . ब्लॉग..kavitapraja.blogspot.com

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top