0
Advertisement

ज़िन्दगी

रुकती नहीं बस चलती जाती है ज़िन्दगी 
रुलाती है फिर खिलखिलाती है ज़िन्दगी 
आंसू देने वालों को रोक न सकेगे हम 
फिर भी अंत में सदा मुस्कुराती है ज़िन्दगी 
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी 

कोशिशें नाकाम हो या उम्मीदें हताश हों 
हौसला डिगे या भटकता विश्वास हो 
क्या हुआ जो थोड़ा डर गये जमाने से 
कमजोरों भी को लड़ना सिखाती है ज़िन्दगी 

कदम बढाने पर अपनाती है ज़िन्दगी 
सताये हुओं को बहलाती है ज़िन्दगी 
मरने के बाद जो बचता वो नाम है
वो नाम बनाना भी दिखाती है ज़िन्दगी 

बच्चों की नादानियां बड़ों का सयानापन 
धीरे धीरे इनमें बदल जाती है ज़िन्दगी 
कहती है साथ साथ तुम भी बदलते चलो 
क्योंकि कहीं पर न रुक पाती है ज़िन्दगी 

भटकता है मन जब हाथ की लकीरों में 
डरता है तू जब बेकार की दलीलों में
डगमगा रहा हो जब विश्वास टूट जाने को 
तब ही सही राहें दिखाती है जिन्दगी 


Ankit bajpai 
S/O Mr.  Ram Naresh Bajpai 
Email Id - ankitbajpai031@gmail.com 
Mobile no.  9453734113
Address--58 Swaroop nagar Sitapur uttar pradesh 
Education--pursuing B.A. from csjm university 
Hobby -- writing poems and stories

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top