2

सपना देखा है

मैंने एक सपना देखा है।
अपना भारत हो सबसे अच्छा,
मैंने एक सपना देखा है।।
भारत हो सबसे अच्छा

अमृतमयी नदियाँ हो फिर से,
झरने गायें गीत।
सुबह सुबह बागों में गूंजे, 
चिड़ियों की संगीत।
मृग और मृगपति साथ में घूमें,
बनके रहें वे मीत....
अपना भारत हो सबसे अच्छा......!

ना कोई हो बेबस-बेचारा,
ना कोई हो भूखा।
फाँसी पर न झूले खेतिहर,
कभी पड़े न सुखा।
चलो मनाये उस भाई को,
जो है हमसे रूठा।
अपना भारत हो सबसे अच्छा.....!

हर बच्ची हो शक्ति स्वरूपा,
हर बच्चा हो राम।
माता-पिता के चरण में दिखे,
हमको चारो धाम।
देश-धर्म पर सदा न्योक्षावर,
अपना तन-मन-प्राण।
अपना भारत हो सबसे अच्छा।
मैंने एक सपना देखा है।।

 यह रचना अजीत कुमार शर्मा जी द्वारा लिखी गयी है . आप वर्तमान में  इंदौर में भारतीय डाक विभाग के कर्मचारी के रूप में कार्यरत हैं। आप साहित्य लेखन में गहरी रूचि रखते हैं .

एक टिप्पणी भेजें

  1. हमने जो सपना देखा हैं, उसे पूरा करने करने का प्रयास खुद से ही सुरु करे.

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर सपना औऱ सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top