1
Advertisement

मेरे प्यार में कमी रही

जाने मेरे प्यार मे कहा कमी रही , 
हर पल मेरी आँखों मे नमी रहीं ।
प्यार

अहसास मुझको अब हुआ ये सनम , 
कदमों तले मेरे नहीं जमी रही ।

रोशनी की बेशक तुम्हें चाहत ना हो , 
दिल की लौ रोशन किए बैठी रही ।

फूलों के संग कांटें मुझको भी मिले , 
मेरे लबों पर क्या शिकायत रही ।

कदमों के तेरे फासले बढ़ते गए ,
और मैं वहीं पर खड़ी रही ।

काँच के टूटे सभी जब महल , 
फूस की झोपड़ी बनी रही ।

प्रीत मेरी झूठी ना सांची सनम , 
मेरे दिल मे तो इबादत ही रही ।

यह रचना पुष्पा सैनी जी द्वारा लिखी गयी है। आपने बी ए किया है व साहित्य मे विशेष रूची है।आपकी कुछ रचनाएँ साप्ताहिक अखबार मे छप चुकी हैं ।

एक टिप्पणी भेजें

  1. पुष्पा जी, बहुत-बहुत मुबारकबाद. बहुत अच्छी कविता है आपकी।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top