2
Advertisement

निर्मल प्रेम

निर्मल प्रेम
चार साल का रोहित बहुत दुखी था. बहुत समझाने पर भी ना तो वह कुछ खाने को तैयार था और ना ही दूध पी रहा था. वह रट लगाए हुए था कि मम्मी को बुलाओ. 
अपने बेटे की यह स्थिति देख कर वासू का कलेजा फटा जा रहा था. समझ नहीं पा रहा था कि उसे कैसे मनाए. उस मासूम को यह बताने की हिम्मत उसमें नहीं थी कि अब उसकी मम्मी कभी वापस नहीं आ सकेगी. वासू ने लाचारी के भाव से अपनी बड़ी बहन की ओर देखा.
अपने भाई को इस विकट परिस्थिति में देख कर वासू की बहन ने रोहित को अपनी गोद में बैठा कर प्यार से समझाया "बेटा मम्मी बहुत दूर आसमान में भगवान के पास चली गई हैं. अब वह वहाँ से ही तुम्हें देखेंगी. तुम कुछ खाओगे नहीं तो उन्हें बहुत दुख होगा."
अपनी बुआ की बात सुन कर रोहित कुछ देर सोंचता रहा. फिर भाग कर बॉलकनी में गया और आसमान की तरफ देख कर बोला "मम्मी तुम दुखी मत होना. मैं अभी जाकर खाना खा लेता हूँ."
तभी आसमान से बूंदें गिरने लगीं. शायद आसमान का दिल भी भर आया.

यह कहानी आशीष कुमार त्रिवेदी जी द्वारा लिखी गयी है . आप लघु कथाएं लिखते हैं . इसके अतिरिक्त उन लोगों की सच्ची प्रेरणादाई कहानियां भी लिखतें हैं  जो चुनौतियों का सामना करते हुए भी कुछ उपयोगी करते हैं.
Email :- omanand.1994@gmail.com

एक टिप्पणी भेजें

  1. बहुत सुंदर और दिल को छु जाने वाली कहानी ये कहानी किसीका भी दिल भर आयेंगा.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top