0
Advertisement

और एक सवाल 

अस्वीकृत होने का बोझ
और एक सवाल
अस्वीकार कर दिये जाने के ग्लानि के साथ
आगे बढना क्या आसान है ?
फिर जवाब मे एक और सवाल..
क्यों नहीं  ?
और एक सवाल
हाँ..  क्योंकि स्वीकार कर लिये जाने पर शायद बात वहीं रह जाये,
पर अस्वीकृत होना एक खोज है..
स्वयं मे ....बेहतर का ,
स्वयं की.... बेहतरी का
एक मौका है आइना देख निखरने का
फिर आइना दिखा उभरने का..
ये रास्तों का अंत नहीं ,
हौसलो की परीक्षा है
कि उसी रास्तों से आगे अपना रास्ता बनाकर..
उसी जगह पंहुचना है..
जहाँ अस्वीकार कर दिये जाने वाली ग्लानि
आत्मसम्मान से लबालब
आत्म निर्भर हो उठे..
किसी और को राह दिखाने के लिये ...

 साधना सिंह 
गोरखपुर

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top