1
तुमने कविता लिखी
तुमने कविता लिखी

तुमने कविता लिखी क्या तुमने लिखा है मन के समंदर को। क्या तुमने लिखा है टूटते गहन अंदर को। क्या देह की देहरी से इतर कुछ लिख सके हो। ...

और जानिएं »

0
कुछ करना होगा
कुछ करना होगा

कुछ करना होगा लम्बे अर्से बीत चले हैं, इनसे कुछ सबक लेना होगा, उम्मीदों की सतत् कड़ी में, इस बार नया कुछ बुनना होगा, अपने समाज के अन्...

और जानिएं »

0
मिर्ज़ा ग़ालिब
मिर्ज़ा ग़ालिब

मिर्ज़ा ग़ालिब का जीवन व आगरा की हवेली  जन्म व परिवार :- मिर्ज़ा ग़ालिब का जन्म 27 दिसंबर सन् 1796 कोआगरा के काला महल में हुई थी । गाल...

और जानिएं »

0
नववर्ष
नववर्ष

नववर्ष लो फिर से बीत गया, एक साल और गया, समय सरकता गया, और नया साल  आया |      सभी ने दी हैं बधाइयाँ,      चारों और बिखरी खुशियाँ, ...

और जानिएं »

0
और एक सवाल
और एक सवाल

और एक सवाल  अस्वीकृत होने का बोझ और एक सवाल अस्वीकार कर दिये जाने के ग्लानि के साथ आगे बढना क्या आसान है ? फिर जवाब मे एक और सवाल.. ...

और जानिएं »

0
मायावती के लिए चुनौतियां
मायावती के लिए चुनौतियां

मायावतीजी के दिन चुनौती भरे  आज कुमारी बहन मायावती उत्तर प्रदेश की राजनीति में एक चर्चित शक्शियत बन गई हैं। चार प्रमुख पार्टियों में उनक...

और जानिएं »

0
रचनाकारों का दायित्व
रचनाकारों का दायित्व

नव वर्ष की चुनौतियाँ एवम रचनाकारों का दायित्व आज जब इस विषय पर लिखने बैठा तो पूरा साल स्मृतियों में किसी बच्चे की चीख चिल्लाहट उसकी मृदु...

और जानिएं »

1
आप अद्वितीय हैं
आप अद्वितीय हैं

याद कीजिए ! आप अद्वितीय हैं अद्वितीय यानी जिसके जैसा दूसरा न हो. इसे ही अंग्रेजी में यूनिक ( Unique ) भी कहा जाता है. खैर यह बिल्कुल ...

और जानिएं »

2
हवा
हवा

हवा हवा तुम मधुर शीतल हुआ करती थी अब हवा को हवा लग गई है विषैले धुएं बटोर के लाती हो तेरे ठंडे थपेड़े में ठंडे एहसास ना रहे बहती ...

और जानिएं »

0
नरेंद्र / हिंदी कहानी
नरेंद्र / हिंदी कहानी

नरेंद्र पिछली बार जब कादिर अपने एक दोस्त के शहर गया तो उसको संगी साथियों ने कहा, भाई अपने कालेज के चार पाँच लोग हैं यहाँ. चलो, किसी दिन ...

और जानिएं »

0
हँस दे जिंदगी
हँस दे जिंदगी

हँस दे जिंदगी थोड़ा सा हँस दे जिंदगी , थोड़ा सा तू मुस्कुरा , पुष्पा सैनी थोड़े बंधन तू तोड़ दे , थोड़ा सा तू गुनगुना । तुझको बुलाए...

और जानिएं »

0
नव वर्ष 2017
नव वर्ष 2017

नव वर्ष 2017 खास को खास खुशियाँ मिले खासकर, आम लोंगो के मुहँ मुस्कुराने लगे। सारी पीड़ा विदा हो नए वर्ष में, प्रीति के गीत सब गुनगुना...

और जानिएं »

0
नव वर्ष
नव वर्ष

नव वर्ष - पुरानी यादें नए दायित्व कैलेंडर से उतरता वर्ष। दे रहा है मन को हर्ष । कुछ विस्मृत सी यादें । कुछ चीखती फरियादें । काले...

और जानिएं »

0
गुजरा वर्ष
गुजरा वर्ष

गुजरा वर्ष  गुजरा वर्ष  दिल भारी करता  यादें भरता  विनोद कुमार दवे बीते वक़्त की  परछाई को छोड़  मुंह ना मोड़  सुन ओ रा...

और जानिएं »

1
चौसठ योगिनी मंदिर
चौसठ योगिनी मंदिर

भारत के प्रमुख चौसठ योगिनी मंदिर  योगाभ्यास करने वाली स्त्री को योगिनी या योगिन कहा जाता है। पुरुषों के लिए इसका समानांतर योगी है। अष्ट ...

और जानिएं »

0
ज़िन्दगी और तुम
ज़िन्दगी और तुम

ज़िन्दगी और तुम मै हर बार सोचती हूँ  बस  अब यहीं तक  और हर बार नयी बात हो जाती है  सोचती हूँ अभी बहुत उजाला है  तो रात हो जाती...

और जानिएं »

1
मेरे प्यार में कमी रही
मेरे प्यार में कमी रही

मेरे प्यार में कमी रही जाने मेरे प्यार मे कहा कमी रही ,  हर पल मेरी आँखों मे नमी रहीं । अहसास मुझको अब हुआ ये सनम ,  कदमों तले...

और जानिएं »

0
 माँ न होती
माँ न होती

 माँ न होती माँ न होती तो इस धरा का विस्तार न होता। माँ न होती तो सृष्टि का सरोकार न होता। माँ न होती तो स्नेह का आँचल न होता। माँ...

और जानिएं »
 
 
Top