2
Advertisement

तुम बिन जीना सीख रही हूँ

तुम बिन जीना सीख रही हूँ ,
दुःख को पीना सीख रही हूँ ।

यादें तेरी रूलाती मुझको ,
झूठा मुस्काना सीख रही हूँ ।
मुस्काना

हूक उठे दिल मे जब कोई ,
उसे दबाना सीख रही हूँ ।

ख्वाबों की बातें करते थे ,
सच को सहना सीख रही हूँ ।

एक दूजे को खूब मनाया ,
दिल को मनाना सीख रही हूँ ।

प्यार मे हँसना तुमसे सीखा ,
प्यार मे रोना सीख रही हूँ ।

तुझको पाना हैं नामुमकिन ,
पा कर खोना सीख रही हूँ ।

तुमने जबसे साथ है छोड़ा ,
तन्हा चलना सीख रही हूँ ।


यह रचना पुष्पा सैनी जी द्वारा लिखी गयी है। आपने बी ए किया है व साहित्य मे विशेष रूची है।आपकी कुछ रचनाएँ साप्ताहिक अखबार मे छप चुकी हैं ।

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top