1
Advertisement

दिल्ली शहर 

        दिवाली आई चली गई छोड़ गई यादें जिसे संजोये हम बैठे हैं अगली दिवाली के इंतजार में I हमने पटाखे खूब फोड़े पड़ोसियों ने भी रॉकेटे  छोड़ी खूब झूमें मौजमस्ती की I 
        हम पूरी तरह भूल चुके हैं कि जिन पटाखों ने हमें मस्त किया आज उनका उठता धुँआ हमारे लिए घातक बन जायेगा I हमारे नन्हें मुन्हें बच्चों के लिए काल के समान मँडराता सिद्ध होगा I 
        हम पढ़े समाज पढ़ा पीढ़ी भी लेकिन सबक किसी ने नहीं लिया I सब एक दूसरे को नीचा दिखाते दिवाली को महावियोग बना दिया I 
        शहर दिल्ली धुंध की चपेट में लिप्त लोग पीड़ा झेल रहे हैं I घर से बाहर निकलो तो बस आँखों में जलन गले में खरांश ऐसा लगता है अब जीना भी दूभर हो गया है I सब हमारे क्रिया कर्मों का फल है जो आज भुगत रहे हैं I 
प्रदूषण        दिवाली पर हमने लाखों रुपये के पटाखे फोड़े बेबुनियाद वातावरण को गन्दा किया I अगर भगवान भी चाहे तो हमें माफ़ न करे I आखिर इंसान इतना निर्दयी कैसे हो गया जो अपने गले का फन्दा बनाने पर लगा हुआ है I 
        सारे लोग पढ़े हैं फिर भी अपने शहर दिल्ली को प्रदूषण से नहीं बचा पा रहे I दिवाली के पटाखों ने हमारे लिए घोर संकट पैदा कर दिए हैं I सोचने पर मजबूर कर दिए हैं I दिन प्रतिदिन बिगड़ते हालात हमारे लिए चिनौती बन गए हैं I 
        सरकार चाहे कितनी भी टीमें बना ले लेकिन प्रदूषण से निजात नहीं दिला सकती I  जब तक हम नहीं सुधरेंगे भला हमारा कैसे होगा I मैं जहाँ तक समझता हूँ हमें ही आगे आना होगा ठोस कदम उठाने होंगें ताकि हम शहर दिल्ली को प्रदूषण से बचाया जा सके I वरना नतीजा सामने है हमें घोर पीड़ाओं से गुजरना होगा जिसका इलाज असम्भ ढूँढने से भी नहीं मिलेगा I 
        आइये सारे लोग मिल जुलकर एक कदम उठायें दिवाली पर पटाखें नहीं केवल स्नेह श्रद्धा जगाएँ I सभी को गले लगाएँ शहर दिल्ली को प्रदूषण मुक्त बनायें I 

 रचनाकार परिचय
नाम-  अशोक बाबू माहौर
जन्म -10 /01 /1985
साहित्य लेखन -हिंदी साहित्य की विभिन्न विधाओं में संलग्न
प्रकाशित साहित्य-विभिन्न पत्रिकाओं जैसे -स्वर्गविभा ,अनहदकृति ,सहित्यकुंज ,हिंदीकुंज ,साहित्य शिल्पी ,पुरवाई ,रचनाकार ,पूर्वाभास,वेबदुनिया आदि पत्रिकाओं में रचनाएँ प्रकाशित I
साहित्य सम्मान -इ पत्रिका अनहदकृति की ओर से विशेष मान्यता सम्मान २०१४-१५ से अलंकृति I
अभिरुचि -साहित्य लेखन ,किताबें पढ़ना
संपर्क-ग्राम-कदमन का पुरा, तहसील-अम्बाह ,जिला-मुरैना (म.प्र.)476111
ईमेल-ashokbabu.mahour@gmail.com
9584414669 ,8802706980 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top