2

सिसकते घाव

खुले घावों में
लहूरंजित छींटें,
जि़न्‍दगी की  चादर पर
मलहम की उम्‍मीद में,
सिसकते – सिसकते
आखि़र सो गए ।।


( उन ‘निर्भयाओं’ को समर्पित, जिन्‍हें न्‍याय नहीं मिला- न सामाजिक और न विधिक )

नदी  

ग़म ये नहीं कि नदी
पुष्पलता शर्मा
पुष्पलता शर्मा
सागर से मिलती है,
ग़म ये है कि नदी
सागर  में गिरती है,
कैसा  छलावा दिया,
भोली नदिया को,
ऐ सागर तूने,
मिलन की आस
दोनों में है,
पर
पतन
नदी ही सहती है ।।
( 1992 में रचित )
                                      ...........

बहस की सार्थकता

बहस की सार्थकता
तभी है
जब हम,
चिपके न रहें
अपनी  असहमतियों पर
और संशय न करें
अपनी  सहमतियों पर ।।
(दोनों लघु कविताएं ‘’180 डिग्री का मोड़’’ काव्‍य-संग्रह से) 
                                                   ...........


यह रचना पुष्पलता शर्मा 'पुष्पी' जी द्वारा लिखी गयी है . आपकी आपकी विभिन्‍न पत्र-पत्रिकाओं में सम-सामयिक लेख ( संस्‍कारहीन विकास की दौड़ में हम कहॉं जा रहे हैं, दिल्‍ली फिर ढिल्‍ली, आसियान और भारत, युवाओं में मादक-दृव्यों का चलन, कारगिल की सीख आदि ) लघुकथा / कहानी ( अमूमन याने....?, जापान और कूरोयामा-आरी, होली का वनवास आदि ), अनेक कविताऍं आदि लेखन-कार्य एवं अनुवाद-कार्य प्रकाशित । सम्‍प्रति रेलवे बोर्ड में कार्यरत । ऑल इंडिया रेडियो में ‘पार्ट टाइम नैमित्तिक समाचार वाचेक / सम्‍पादक / अनुवादक पैनल में पैनलबद्ध । कविता-संग्रह ‘180 डिग्री का मोड़’ हिन्‍दी अकादमी दिल्‍ली के प्रकाशन-सहयोग से प्रकाशित हो चुकी है ।

एक टिप्पणी भेजें

  1. जय मां हाटेशवरी...
    अनेक रचनाएं पढ़ी...
    पर आप की रचना पसंद आयी...
    हम चाहते हैं इसे अधिक से अधिक लोग पढ़ें...
    इस लिये आप की रचना...
    दिनांक 01/11/2016 को
    पांच लिंकों का आनंद
    पर लिंक की गयी है...
    इस प्रस्तुति में आप भी सादर आमंत्रित है।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top