0
Advertisement

संकल्प (व्यंग्य )

मिश्राइन का तीन मंजिला घर देखकर गुप्ताइन के करेजा पर रोज ही मोटका अजगर रेंगता था। अइसा नहीं था कि गुप्ताइन कवनो किराया के घर में रहती थीं। लेकिन कहां पांच बड़े-बड़े कमरों वाला तीन मंजिला घर, आ कहां तीन कमरे का एक छोटा सा घर। उसमें भी बाहर बिना पलस्तर की दीवार आ लैट्रीन-बाथरूम के ऊपर एस्बेस्टस की छत।
जब भी गुप्ताइन मिश्राइन के घर जातीं तो उनकी आवभगत से जितना प्रभावित होतीं, उनके टाइलस लगे फर्श और मंहगे सोफासेट को देखकर मन ही मन उतनी ही आहें भरतीं। काश कि गुप्ताजी भी खूब पढ़-लिखकर मिश्राजी की तरह आयकर अधिकारी बन जाते, अधिकारी ना सही त इंसपेक्टर ही हो जाते तो उनके ठाठ-बाट भी मिश्राइन की तरह होते तो सही। तीन मंजिला ना सही, दु मंजिला घर त होता ही। लेकिन गुप्ताजी को तो पढ़ने में मन ही नहीं लगता था।
साथ ही त पढ़ते थे मिश्राजी आ गुप्ताजी। जहां मिश्राजी मैट्रिक में टाॅप किए थे, वहीं गुप्ताजी मैट्रिक में तीन बार फेल हो गए थे। हार-पाछ के गुप्ताजी के बाबूजी ने उनके लिए एक किराने की दूकान खोल दी और गुप्ताइन से बिआह कर दिया। साल भर की भीतर ही छोटे गुप्ताजी उन दोनों के घर पधार गए थे। जब तक गुप्ताजी के दोनों भाई कुंवारे थे, वे दोनों बाबूजी के घर में ही रहे। इसीलिए ना घर छोटा लगा, ना पैसे की कमी अखरी। लेकिन जब गुप्ताजी के दोनों भाइयों का भी बिआह हो गया तो आए दिन कलह होने लगा। रोज-रोज के किचकिच से तंग आकर बाबूजी ने अपना तीन मंजिला घर बेच दिया आ तीनों बेटों को एक-एक घर खरीद दिया। आ दोनो पति-पत्नी गांव जाकर खेती-बाड़ी कराने लगे।
शुरू-शुरू में त अपनी अकेली गृहस्थी में गुप्ताइन को बड़ा आनंद आया। कुल पांच प्राणी - दो लड़का, एक लड़की आ दोनों पति-पत्नी, का काम करते गुप्ताइन फूली ना समातीं। अब त न किसी का रोक था न टोक। अपनी गृहस्थी की अकेली मलकिनी थीं। लेकिन साल भर के भीतर ही अकेले रहने का सारा मजा गायब हो गया। सीमित आमदनी में घर चलाने की मजबूरी आ गई। शुरू में त गुप्ताजी ने गुप्ताइन को अपनी दूकान की हालत बताई ही नहीं, लेकिन आखिर कब तक छुपाते। आखिर गुप्ताइन को पता चल ही गया कि गुप्ताजी सिर्फ पढ़ने-लिखने में ही कच्चे नहीं हैं बल्कि दूकान-दौरी में भी कच्चे ही हैं। इस बात का पता चलते ही गुप्ताइन ने दूकान संभालने की कमान अपने हाथ में ले ली। दूकान चल भी पड़ी, लेकिन उससे इतनी आमदनी नहीं होती थी कि मिश्राजी के ठाठ की बराबरी की जा सके।
ऐसा नहीं था कि मिश्राजी कवनो घूसखोर थे, लेकिन कवनो साध भी नहीं थे। बिना मांगे जो कुछ भी मिल जाता था, उसे भोले बाबा का परसाद समझकर घर पर भिजवा देते थे। दूसरे, उनकी पत्नी भी हाईस्कूल की हेडमास्टरनी थीं, सो उनके पास तो तीन तरफा आमदनी थी। देखते-देखते ही उन्होंने गुप्ताजी के घर के सामने की बड़ी सी खाली पड़ी जमीन खरीद ली आ साल भर में ही तीन मंजिला घर पिटवा लिया। जैसे-जैसे मिश्राजी का घर बनता जा रहा था, गुप्ताइन की छाती फटी जा रही थी।
तरु श्रीवास्तव
तरु श्रीवास्तव
मिश्राइन एक भली महिला थीं, सो अपने आस-पड़ोस के लोगों से जल्द ही उनके रिश्ते मधुर बन गए। गुप्ताइन भी गाहे-बगाहे मिश्राइन के पास चली जाती थीं, मिलने कम घर निहारने ज्यादा। खैर, एक दिन बातों-बातों में गुप्ताइन ने मिश्राइन से अपनी आर्थिक स्थिति सुधारने का उपाय पूछ डाला। उपाय के तौर पर मिश्राइन ने गुप्ताइन को अपनी दूकान पर किराने के सामान के अलावा महिलाओं के मेकअप, चूड़ी, कपड़े आदि बेचन का सुझाव भी दे डाला। मिश्राइन का सुझाव काम भी कर गया। अब गुप्ताइन को पहले के मुकाबले दोगुनी आमदनी होने लगी थी। वह अब पहले से ज्यादा खुश रहने लगी थीं। लेकिन यह आमदनी इतनी भी ज्यादा नहीं थी जो उनके घर को तीन मंजिला घर में बदल सके आ मिश्राइन के हैसियत की बराबरी कर सके। लेकिन बहुत जल्द गुप्ताइन को अपनी आमदनी दिन दूनी रात चैगुनी बढ़ाने का एक सूत्र हाथ लग ही गया।
हुआ कुछ अइसा, एक दिन गुप्ताइन के दूर की मामी उनसे मिलने आईं। गुप्ताइन का हाल उनसे देखा न गया, सो उन्होंने अपने पति से कहकर गुप्ताजी को ठेकदारी का काम दिलवा दिया। गुप्ताइन के माम सड़क बनाने के लिए ठेके लिया करते थे, लेकिन उम्र बढ़ने के कारण अब वो उतनी भाग-दौड़ नहीं कर पा रहे थे। दूसरे, उनके बच्चे विदेश में बस गए थे। अकेलापन और पैसे कमाने के मोह में उन्होंने गुप्ताजी को अपने साथ काम पर लगा लिया था। यह गुप्ताइन की कड़ी हिदायत का ही असर था कि इस काम में गुप्ताजी को बरकत होने लगी।
असल में जिस पहली जनवरी को गुप्ताइन की मामी ने गुप्ताजी को इस काम के बारे में बताया था, बस उसी पल गुप्ताइन ने गुप्ताजी को यह संकल्प दिला दिया था कि आज से बेइमानी परमो धरमः। सड़क चाहे छह महीने में टूट जाए, लेकिन उनका टाइल्स वाला तीन मंजिला मकान दो साल में बन जाना चाहिए।
देखते-देखते गुप्ताजी के घर पर भी लक्ष्मी बरसने लगी। जिस तीन मंजिला घर के लिए गुप्ताइन बरसों से तरस रही थीं, गुप्ताजी के ठेकेदारी शुरू करने के पांच बरस के भीतर ही वह तीन-तीन तीन मंजिला घर की मलकिनी बन चुकी थीं। शायद गुप्ताजी ने एक जनवरी को लिए अपने संकल्प को कुछ ज्यादा ही सख्ती से अमल में लिया था।
आज तो गुप्ताइन के पैर जमीन पर ही नहीं पड़ रहे थे। जिस मोहल्ले में मिश्राइन के घर और उनके ठाठ-बाट की चर्चा होती थी, आज उसी मोहल्ले में बच्चे-बच्चे की जुबान पर गुप्ताजी आ गुप्ताइन के घर की चर्चा थी। असल में गुप्ताजी अपने काम यानी पैसे कमाने में इतना ज्यादा मगन हो गए थे कि उचित-अनुचित सब ताक पर रख दिया था और इसकी भनक आयकर विभाग को भी लग गई थी। दोस्ती के लिहाज से कई बार तो मिश्राजी ने यह छापा रूकवा दिया था और गुप्ताजी को संभलकर पैसे कमाने की सलाह दी थी। लेकिन गुप्ताजी अपने संकल्प को पूरा करने में इतने मगन थे कि मिश्राजी की बातें उनके कानों तक पहुंचती ही नहीं थी। खैर, जब विभाग की ओर से छापा डालने का दबाव पड़ने लगा तब हारकर मिश्राजी ने हरी झंडी दिखा दी। खुद के ऊपर कोई दोष न आए इसलिए मिश्राजी सपरिवार छुट्टी मनाने सिंगापुर चले गए और बाकी के अधिकारियों को गुप्ताजी के यहां छापा माने का निर्देश दे गए।
आज ही दिन में गुप्ताजी के यहां आयकर का छापा पड़ा था। छापे में ज्यादा कुछ तो नहीं मिला था। एक करोड़ रुपया आ पांच किलो सोना के सिवा आयकर विभाग को और कुछ भी नहीं मिला था। लेकिन इस बात ने गुप्ताइन का रूतबा जरूर बढ़ा दिया था। आज तो पूरे मोहल्ले में उनके धनवान होने की चर्चा थी। और हो भी क्यों न, सच की जगह झूठ का परचम जो आज बुलंद हुआ था। छापा पड़ना हमारे-आपके लिए शर्म की बात हो सकती है, लेकिन इस कारण गुप्ताइन की आज बरसों की इच्छा जो पूरी हुई थी। आज पूरे मोहल्ले के चर्चा का केंद्र वही तो थीं। आज मिश्राइन की जगह उनके ठाठ-बाट की चर्चा थी। 
हां, यह और बात थी की इस छापे को डलवाने के लिए गुप्ताजी ने ही मिश्राजी को कहा था। इस एवज में गुप्ताजी ने मिश्राजी को मिठाई खाने के लिए 25 लाख रुपए दिए थे और सिंगाुपर घूमने का टिकट भी।
सुनिए साहब, अभी मेरी बात पूरी नहीं हुई है। इस छापे के साल भर के भीतर ही गुप्ताजी एक क्षेत्रीय राजनैतिक पार्टी के वरिष्ठ पद को सुशोभित कर रहे थे। अब तो बस गुप्ताइन को उस दिन का इंतजार है, जब गुप्ताजी को अगले चुनाव में उनके मनपसंद चुनाव क्षेत्र से टिकट मिलेगा और वो मंत्री बनकर सत्ता का सुख भोगेंगे। तभी जाकर एक जनवरी को लिया गया संकल्प सही माने में पूरा होगा।

यह रचना तरु श्रीवास्तव जी द्वारा लिखी गयी है . आप कविता, कहानी, व्यंग्य आदि साहित्य की विभिन्न विधाओं में लेखन कार्य करती हैं . आप पत्रकारिता के क्षेत्र में वर्ष 2000 से कार्यरत हैं। हिंदुस्तान, दैनिक भास्कर, दैनिक जागरण, अमर उजाला, हरिभूमि, कादिम्बिनी आदि पत्र-पत्रिकाओं में बतौर स्वतंत्र पत्रकार विभिन्न विषयों पर कई आलेख प्रकाशित। हरिभूमि में एक कविता प्रकाशित। दैनिक भास्कर की पत्रिका भास्कर लक्ष्य में 5 वर्षों से अधिक समय तक बतौर एडिटोरियल एसोसिएट कार्य किया। तत्पश्चात हरिभूमि में दो से अधिक वर्षों तक उपसंपादक के पद पर कार्य किया। वर्तमान में एक प्रोडक्शन हाऊस में कार्यरत हैं.आकाशवाणी के विज्ञान प्रभाग के लिए कई बार विज्ञान समाचार का वाचन यानी साइंस न्यूज रीडिंग किया।

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top