0
Advertisement

लिखने के बहाने

जी चाहता है खुले आसमान मे,
पंख फैलाये उडान भर लूँ!
लेखन
इस पावन धरा के हर कृृषक-
की किस्मत मे,
जीने की तमन्ना का एक नया पाठ लिख दूँ!
लहराती थी जिन आँखो मे,
हर फसल कि खुसहाली लिख दूँ!
मैं आज कविता लिखने के बहाने-
उस आँख के हर आँसु को लिख दूँ!!
चाहत तो शायद बड़ी है मेरे दिल मे,
अपनी इस छोटी कलम से जमीनदारो-
की लाट्ठी को हर लूँ,,
उनकी अन्धेरी गुहा सी आँखो से-
कारिंदो का भय मिटा दूँ!
देखो आज हर कोने मे, हर झोपडी-
मे फाँसी से लटका है किसान,
हर पार्टी के हर नामी कर्मनिष्ट-
मंञी कि लाट्ठी से मरा है किसान
अगर मिले जो खुदा कही तो-
उसे उसकी ये न्याय दिखा दूँ,
मैं आज कविता लिखने के बहाने-
उस आँख के हर आँसू को लिख दूँ!!

यह रचना गोपाल लाल कुमावत जी द्वारा लिखी गयी है . आप जिला नागोर, राजस्थान से हैं . आप अभी विद्यार्थी हैं .
संपर्क सूत्र - गोपाल लाल कुमावत,पता:- मु. गांधी ग्राम पो. घाटवा, त. नाँवा, जिला नागोर,राजस्थान, मोबाइल -  8769799395; 7877159501

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top