0
Advertisement

 रिक्शावाले का गीत

यह रिक्शा नहीं , देह मेरी का है विस्तार
यह चढ़ी सवारी , प्राण-वायु पर पड़ता भार
यह कुछ रुपयों के बदले पड़ी देह पर मार
आदमी पर आदमी चढ़ा , जनतंत्र का कैसा प्रकार

                          2. काम वाली बाई का गीत
                         ---------------------------
                                                              --- सुशांत सुप्रिय
झाड़ू-पोंछा करके अपना घर-बार चलाती हूँ
यह भीख नहीं , मेहनत करके संसार चलाती हूँ
मैं श्रम के नमक सहारे कारोबार चलाती हूँ
रिक्शा
कपड़े-बर्तन धोती मैं अपनी देह गलाती हूँ

                         3. मोची का गीत
                        ------------------
                                                 --- सुशांत सुप्रिय
मूसलाधार बारिश हो या फिर कड़ी धूप हो
रोज़ी-रोटी चलती है मेरी एकरूप हो
चाहे जूतों को सिलते मेरे हाथ हुए विद्रूप हों
सभी बराबर सामने मेरे , राम हो या शम्बूक हो

                        4. भिखारी का गीत
                       --------------------
                                                   --- सुशांत सुप्रिय
कभी चौक , कभी मंदिर के बाहर मैं खड़ा हूँ
आशीष बाँटता हूँ , उम्मीद से भरा हूँ
यह देह नहीं चलती , काल-बद्ध हो पड़ा हूँ
यदि जीव में ईश्वर है , तो दान से बड़ा हूँ

                       ------------०------------

प्रेषकः सुशांत सुप्रिय
         A-5001 ,
         गौड़ ग्रीन सिटी ,
         वैभव खंड ,
         इंदिरापुरम ,
         ग़ाज़ियाबाद - 201014
         ( उ. प्र. )
मो : 8512070086
ई-मेल : sushant1968@gmail.com

                      ------------0------------

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top