0
Advertisement

जल गए अरमान सारे

जल गए अरमान सारे
हुए ख्वाब पत्थर के सारे
कशमकश मे तुमने घायल किया मुझे
ख़ामोश हो गए मेरे इन्तजाम सारे
तन्हा दिल लड़ता रहा तन्हाइयों से
वो महफ़िल की मंजर चुरा गया सारे
रिंकी मिश्रा
रिंकी मिश्रा
पहली ही नज़र थी मुहब्बत की अभी
एक मुलाकात मे वो वादे कर गया सारे
उसकी सूरत और बेवफ़ाई में फर्क बहुत था
पार कर गया वही बेवफ़ाई के हद सारे
कोई तो होगा भीड़ भरी शहर में ईमान वाला
या इश्क़ करने वाले बेईमान हो गए सारे।।
❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄

2.गज़ल
-----------

छुड़ा कर हाथ वो भी ग़मज़दा हुआ
जाना उसका मेरे लिए जफ़ा हुआ

रोया वो भी होके जार-जार
मगरूर बेपरवाह भी ग़मज़दा हुआ

शाम ढ़ले चला आता है मेरे चिलमन मे
वो जो जाने पर आमादा  हुआ

तमाशा तो उसने खूब किया जज्बातों के साथ
सोये दर्द को हवा देना अंदाज़-ए-अदा हुआ

सुना है लोगों से कहते हुए उसको आजकल
दिल तोड़ा तेरा दिल में तेरा हीं कदा हुआ।
❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄
3.गज़ल
---------
बारिश के मौसम भी अब्र-ओ-घटा नहीं रखता।
सावन में अब ख़ास क्यों अदा नही दिखता।
मोहब्बत गम की बारिश है ख़ूब सुना है ये हमने।
डरते है भीगने से मगर बिन भीगे मज़ा भी नही आता।
अजल है ये आँसू आंखो को अब है अज़ीज मगर अफ़सुर्दा।
उसके अन्जुमन पर अब्तर हुए बिन कोई और इत्तिका भी नही मिलता।
इत्तिहाम क्या दूँ मैं उसको इन्तिख़ाब तो मैंने किया।
काइल काईदा का वो ख़जालत अदा ख़्याल
"रिंकी" पत्थरों से दिल लगा के वफ़ा नही मिलता।
❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄❄
4.गज़ल
-------------
वो गली वो चौराहा कब अज़नबी हो गया
बदले रवैये इंसानी मिज़ाज के
किराये का जैसे शहर हो गया
उठता था शोर मोहहले के पार्क से
पुख़्ता-पुख़्ता ये मौन हो गया
सहमें  गली बाज़ार है
जिंदगी दहशत से तंग हो गया
बेदम हुई इश्क की दीवारें
मलबा कोई पत्थर में दब गया
कोई बढ़ाये हाथ लेकर हाथ में ईमान
देखिए शहर फिर से रौशन हो गया।

यह रचना रिंकी मिश्रा जी द्वारा लिखी गयी है . आप एक गृहणी हैं और स्वतंत्र रूप से साहित्य की विभिन्न विधाओं में लेखन में रत हैं . 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top