0
Advertisement

रिश्ता

बेगाना था तू मेरे लिए,
अपना कब कैसे हो गया ?
दूर दिखे पर पास लगे,
कैसा ये करिश्मा हो गया।


दूरी इतनी की पहुँच न पाऊँ,
इतना क़रीब लम्हे में पाऊँ ,
मधु शर्मा कटिहा
मधु शर्मा कटिहा
दिल,धड़कन और आँखो में तू ही,
खुद से हुई दूर तू करीब हो गया।

तेरी ही बातें करे सुबह-ओ- शाम,
रोकूं तो आँखो को भेजे पैगाम,
कैसा बेअदब दिल है मेरा ये ,
रफ़ीक़ मेरा, तेरा रक़ीब हो गया।

मदमस्त कर दिया बातों ने तेरी,
मदहोश किया यादों ने तेरी ,
मासूम जिया ये तेरी ख़ातिर,
मयख़ाना कब से हो गया ?

आज़ाद भी है, कुछ क़ैद में भी,
रिश्ता ये सबसे जुदा हो गया,
हर वक़्त करूँ इबादत मैं तेरी,
या रब ! इन्सां ये कैसे खुदा हो गया।

सुनते आए हैं कब से ये सच ,
नशे में रिश्ते बन जाते हैं कुछ,
क्या कहिए यूँ हो जाए जब,
रिश्ता ही नशा बन जाए उफ़ !!

यह रचना  मधु शर्मा कटिहा जी द्वारा लिखी गयी है . आपने दिल्ली विश्वविद्यालय से लाइब्रेरी साइंस में स्नातकोत्तर  किया है . आपकी  हिन्दी पठन-पाठन व लेखन ----कुछ कहानियाँ व लेख  प्रकाशित हो चुके हैं। 

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top