0
Advertisement

रजनीगंधा

रजनीगंधा हो तुम मेरे जीवन की....
अरमानों का ताज़गी भरा प्याला हो
बेखुदी मे डूबी मद-मस्त हाला हो।
तुम्हारे आँखों मे डूबने को जी करता है
खिला-खिला सा पुष्प हो मेरे जीवन की...
प्रीति जैन
प्रीति जैन

सुरमई ढलती शाम का दिया हो..
ख़ुशी से गदराया मेरा कोमल हिया हो।
केशुओं की घटाओ मे कही खो न जाऊँ..
बहका सा अहसास हो मेरे जीवन की.

हर घडी रिसता-पिसता आभास हो तुम..
अरमानों का सेहरा सजाये विश्वास हो तुम।
ये जिंदगी न मिलेगी दोबारा जान लो गर..
पूरी क़ायनात हो तुम मेरे जीवन की।

मरमरी अंगो पर मखमल सा लिबास हो...
पल-पल लगती अनबुझी प्यास हो तुम।
मँझदार मे फँसकर बैठा तुम्हारे इंतजार मे..
नैया की पतवार हो तुम मेरे जीबन की..।

रजनीगंधा हो तुम मेरे जीवन की...
रजनीगंधा हो तुम........................।
..✍प्रीति जैन


यह रचना प्रीति जैन(परवीन)द्वारा लिखी गई है।आप स्वतंत्र रूप से,काव्य,लेख,संस्मरण,कहानी लिखती रही है।(हमारा आत्म-मंथन)..public group की संपादक है।लोकजंग,समाचार जगत पत्रिका व विश्व -गाथा,कलम के कदम पुस्तको आदि मे रचनाये छपती रही है।।

एक टिप्पणी भेजें

आपकी मूल्यवान टिप्पणियाँ हमें उत्साह और सबल प्रदान करती हैं, आपके विचारों और मार्गदर्शन का सदैव स्वागत है !
टिप्पणी के सामान्य नियम -
१. अपनी टिप्पणी में सभ्य भाषा का प्रयोग करें .
२. किसी की भावनाओं को आहत करने वाली टिप्पणी न करें .
३. अपनी वास्तविक राय प्रकट करें .

 
Top